पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • शहर में डोर टू डोर कचरा संग्रहण की कवायद तेज

शहर में डोर टू डोर कचरा संग्रहण की कवायद तेज

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सालभर बाद ही सही, लेकिन डोर टू डोर कचरा संग्रहण की फाईल बाहर गई है। नगर परिषद के सभापति रितेश शर्मा और नगर परिषद आयुक्त सुरेंद्र यादव ने गुरुवार को इस संबंध में शहर के सफाई कर्मियों के साथ मीटिंग की और इस योजना को प्रभावी तरीके से लागू करने के लिए सुझाव मांगे। चेयरमैन ने इस संबंध में शुक्रवार को सभी पार्षदों एवं दस नवंबर को शहर के समाज सेवियों एवं स्वयं सेवी संस्थाओं के साथ भी मीटिंग करने का निर्णय लिया है।

चेयरमैन के मुताबिक योजना को प्रभावी तरीके से लागू किया जाना है। इसका प्रारूप लगभग तय कर लिया गया है, लेकिन चूंकि योजना सफाई कर्मियों की बदौलत ही कामयाब हो सकेगी। इसलिए गुरुवार को उनके साथ मीटिंग कर उनके भी सुझाव लिए है। वहीं शुक्रवार को इस संबंध में पार्षदों के साथ भी मीटिंग की जाएगी। इस मीटिंग में ही योजना के प्रारूप को अंतिम रूप दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि इस योजना के तहत पूरे शहर को विभिन्न कलस्टर में बांट दिया जाएगा। इसके बाद सफाई कर्मियों को कलस्टवार वाइज जिम्मेदारी देकर इसे लागू किया जाएगा। गौरतलब है कि यह योजना नगर परिषद ने करीब साल भर पहले तैयार की थी। योजना के तहत जगह जगह कचरा पात्र भी रखवा दिए गए, लेकिन अमल होने की वजह से यह सभी कचरा पात्र खराब होने की स्थिति में गए है।

सभापति रितेश शर्मा के मुताबिक योजना में चालान की प्रक्रिया को प्रमुखता से रखा गया है। इसमें यदि कोई दुकानदार या मकान मालिक निर्धारित स्थान पर कचरा नहीं डालता या गंदगी फैलता है तो संबंधित एरिए के सफाई कर्मी उसका चालान कर सकेंगे। यह योजना शहर में पहली बार लागू हो रही है। इस योजना से शहर को स्वच्छ बनाया जाएगा। इस योजना के तहत निर्धारित स्थानों पर शहर में जगह - जगह कचरे के लिए स्थान निर्धारित किए जाएंगे। यदि इन निर्धारित स्थानों पर लोग कचरा नहीं डालते है तो उस एरिए के संबंधित कर्मचारी उन मकान मालिकों एवं दुकानदारों का चालान काटेंगे। जिससे इस योजना सफल क्रियान्वयन हो सके।

यूजहो सकेंगे वाहन

डोरटू डोर कचरा कलेक्शन के लिए आरयूआईडीपी ने करीब ढाई साल पहले नगर परिषद को छह टाटा मैजिक गाड़ियां डोनेट की थी। उस समय तैयार किए गए प्रस्ताव में कहा गया था कि यह गाड़ियां डोर टू डोर जाएंगी और घंटी बजाएंगी। इसके बाद मकान मालिक घर का कचरा निकालकर इन गाड़ियों में डाल देगा। फिर यही गाड़ियां कचरे को डं