• Hindi News
  • National
  • जीएसटी के नए बदलाव से संभाग के 80 फीसदी व्यापारियों को राहत

जीएसटी के नए बदलाव से संभाग के 80 फीसदी व्यापारियों को राहत

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जीएसटीकाउंसिल के नए निर्णयों से संभाग के करीब 80 फीसदी व्यापारियों को लाभ मिला है। उन्हें अब हर महीने रिटर्न दाखिल करने के झंझट से मुक्ति मिल गई है। साथ ही रिवर्स चार्ज से भी फिलहाल छुटकारा मिल गया है।

उल्लेखनीय है कि भरतपुर में करीब 26 हजार डीलर्स हैं, जिनमें से 80 फीसदी व्यापारियों का टर्नओवर एक करोड़ तक है। जीएसटी काउंसिल की बैठक में कंपोजीशन स्कीम 75 लाख से बढ़ाकर एक करोड़ कर दी है। साथ ही डेढ़ करोड़ तक टर्नओवर वाले व्यापारियों को हर माह रिटर्न भरने के बजाए अब पूर्व की भांति तिमाही रिटर्न फाइल करने की सुविधा दे दी है। सेलटैक्स विभाग के संयुक्त आयुक्त प्रशासन आरसी जैन ने बताया कि संभाग में करीब 26 हजार डीलर्स रजिस्टर्ड हैं। इनमें से करीब 21 हजार लोगों को नए प्रावधान से फायदा होगा।

उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों 5959 व्यापारियों ने अगस्त माह की जीएसटी-आर 3 बी के फार्म अपलोड नहीं किए थे। ऐसे व्यापारियों पर 200 रुपए रोज का जुर्माना लग रहा था। इनमें भरतपुर के 2955, करौली में 1017, सवाईमाधोपुर में 1002 एवं धौलपुर में 985 व्यापारी थे। सीए अतुल मित्तल ने बताया कि नए प्रावधान से इनको फायदा होगा। फोर्टी के अध्यक्ष एवं होटल व्यवसायी अनुराग गर्ग ने बताया कि एसी रेस्टोरेंट पर 18 प्रतिशत टैक्स को घटा कर 12 प्रतिशत कर दिया गया है।

यानी छह प्रतिशत की कटौती हुई है, जबकि नान एसी में पहले से ही 12 प्रतिशत जीएसटी है। उल्लेखनीय है कि केवलादेव राष्ट्रीय पक्षी उद्यान के कारण शहर में 80 से अधिक होटल एवं रेस्टोरेंट हैं। नए बदलाव से होटल व्यवसायियों एवं सैलानियों को फायदा होगा।

खबरें और भी हैं...