• Hindi News
  • National
  • 20 करोड़ से बनेगा रीको का नया जीएसएस फैक्ट्रियों को मिलेगी निर्बाध बिजली सप्लाई

20 करोड़ से बनेगा रीको का नया जीएसएस फैक्ट्रियों को मिलेगी निर्बाध बिजली सप्लाई

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
स्थानीयरीको में 33 केवी का नए जीएसएस बनाने की प्रसाण निगम ने अनुमति दे दी है। इससे अब रीको एरिया को निर्बाध बिजली मिलने की उम्मीद जागी है। ये फाइल 3 साल से जयपुर में प्रसारण निगम के अधिकारियों के पास पैडिंग पड़ी थी। उद्योगों को निर्बाध बिजली ना मिलने के मामले को कई बार दैनिक भास्कर प्रमुखता से उठा चुका है।

जानकारी के मुताबिक स्थानीय रीको एरिया के लिए अलग से जीएसएस नहीं था। इसीलिए आवासीय कॉलोनियों की लाइन से ही फैक्ट्रियों को बिजली दी जाती थी। इससे दिनभर बिजली की ट्रिपिंग मरम्मत के नाम पर बिजली की कटौती होती रहती थी। इससे ना तो फैक्ट्रियों को निर्बाध बिजली मिल पा रही थी और ना ही स्थानीय रीको में बड़ी फैक्ट्रियां लगाने के इच्छुक लाेगों को 5 केवी से अधिक लोड के विद्युत कनेक्शन मिल पा रहे थे। इस कारण स्थानीय रीको उजड़ रहा था। रीको को निर्बाध बिजली बड़े विद्युत कनेक्शन देने के लिए निगम के स्थानीय अधिकारियों ने करीब 3 साल पहले प्रसारण निगम जयपुर को रीको को अलग से जीएसएस बनाने का प्रस्ताव भेजा था। शेष|15 पर

20 करोड़ से बनेगा...

लेकिनअधिकारियों ने फाइल को पैडिंग पटक रखा था। इस समस्या को भास्कर ने कई बार प्रमुखता से उजागर किया। जिसके बाद प्रसारण निगम के अधिकारी जागे हैं रीको के लिए अलग से 33 केवी का नया जीएसएस बनाने की अनुमति दे दी है। निगम के स्थानीय एईएन एके तिवारी ने बताया कि प्रसारण निगम की ओर से रीको के लिए अलग से करीब 20 करोड़ रुपए की लागत से जीएसएस बनाने की अनुमति मिल चुकी है। प्रसारण निगम के स्थानीय जेईएन एनडी शर्मा ने बताया कि रीको के लिए अलग से जीएसएस बनाने की अनुमति मिल चुकी है। जिसके लिए रीको एरिया के लास्ट में ओड़ेला गांव के पास भूमि पूर्व में ही आवंटित हो चुकी है। अब तो भूमि को लेकर रीको में कुछ पैसा जमा कराना है और अन्य कागजी कार्रवाई पूरी करनी है। जो कि करीब 15 दिन में पूरी हो जाएगी। इसके बाद करीब 3 माह में जीएसएस बनाकर तैयार कर दिया जाएगा।

स्थानीय रीको को निर्बाध बिजली ना मिलने अलग से जीएसएस की फाइल प्रसारण निगम जयपुर के पास लंबित होने का मामला भास्कर ने कई बार उठाया। जिसके बाद निगम अधिकारी चेते हैं और अलग जीएसएस की अनुमति दी है। अलग जीएसएस बनने के बाद उद्योगों को पर्याप्त निर्बाध बिजली मिलने की संभावनाएं जताई जा रही हैं। जिससे दम तोड़ रहे उद्याेग फिर से पनपने लगेंगे। इससे युवाओं को रोजगार मिलेगा बेरोजगारी की समस्या में कमी आएगी।

धौलपुर. स्थानीय रीको एरिया।

खबरें और भी हैं...