• Hindi News
  • National
  • बैंकों में लाइनें अब भी बरकरार, 24 हजार की जगह मिल रहे 10 हजार

बैंकों में लाइनें अब भी बरकरार, 24 हजार की जगह मिल रहे 10 हजार

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर संवाददाता | डूंगरपुर

नोटबंदीके बाद महीनेभर से ज्यादा का समय हो गया है, लेकिन उपभोक्ताओं को अब भी जरूरत के अनुसार रकम नहीं मिल रही है। बैंकों में हालात यह है कि रुपए की कमी के कारण लोगों को नियमानुसार भी रुपए नहीं दिए जा रहे है।

शहर के बैंक ऑफ बड़ौदा शाखा पुराना बस स्टैंड पर बुधवार शाम 4 बजते ही लाइन में लगे उपभोक्ताओं को बैंक बंद होने का हवाला देते हुए कामकाज बंद कर दिया। इससे उपभोक्ता आक्रोशित हो उठे और कहा कि वे दोपहर 1 बजे से लाइन में लगे है और शाम 4 बजे तक उनका नंबर आया, इससे पहले काम बंद कर दिया। इससे उनका समय भी फालतू में ही गया।

आवासन मंडल के भूपेंद्रसिंह और सब इंसपेक्टर किशनलाल भी उसी लाइन में लगे हुए थे। भूपेंद्रसिंह ने बताया कि उनके पास पिछले महीने का चेक है, जिसे लेकर रोजाना चक्कर काट रहे है, लेकिन हर बार भीड़ होने के कारण वापस लौटना पड़ रहा था। बुधवार को लाइन में लगे तो बंद होना बता रहे है।

वहीं उपभोक्ताओं ने बताया कि उनकी ओर से 24 हजार रुपए निकालने के लिए फार्म और चेक दिया जा रहा है, लेकिन बैंक की ओर से सिर्फ 10 हजार रुपए ही दिए जा रहे है।

बैंक ने इस संबंध में अपनी शाखा के दीवारों पर नोटिस भी चस्पा कर दिया है कि 24 हजार रुपए की जगह 10 हजार रुपए की भरें। इधर, लोगों के आक्रोश के बाद लीड बैंक मैनेजर के आर खाटवा पहुंचे और लोगों को शांत करते हुए मौजूद लोगों को भुगतान करने के निर्देश दिए। इसके बाद माहौल शांत हुआ।

खबरें और भी हैं...