• Hindi News
  • National
  • अस्पताल में दाेगुने हुए मरीज दवा मिल रही है उपचार

अस्पताल में दाेगुने हुए मरीज दवा मिल रही है उपचार

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सामुदायिककेंद्र पर रोगियों को उपचार नहीं मिल पा रहा है। जबकि पहले से रोगियों की संख्या डबल हो चुकी है। आउटडोर में इन दिनों 1000 रोगियों का आना जाना लगा हुआ है।

अकलेरा एवं उसके आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों से भी रोगी उपचार कराने के लिए भर्ती हो रहे है। इन क्षेत्रों में चिकित्सकों के पद रिक्त रहने से सामुदायिक केंद्र में रोगियों की संख्या में बढ़ोतरी हुई है। हालत यह है कि जिला मुख्यालय से भेजी जाने वाली दवाइयों की सप्लाई एक सप्ताह में ही समाप्त हो जाती है। चिकित्सा सूत्रों के अनुसार अस्पताल में रोगियों की संख्या बढ़ी है, लेकिन नर्सिंग स्टाफ का अभाव होने से उपचार नहीं हो पा रहा है। क्षेत्र के मनोहरथाना, जावर, हरनावदा, सारथल, सरड़ा, घाटोली, थनावद, गेहूंखेड़ी, चुरेलिया, कामखेड़ा में चिकित्सकों के पद रिक्त है। इसके कारण अकलेरा अस्पताल पर रोगियों का दबाव बना हुआ है। अस्पताल में लगाए स्टाफ को डेपुटेशन पर लगाने से भी नर्सिंग स्टाफ की समस्या सामने रही है। स्वास्थ्य केन्द्र पर 12 चिकित्सकों के मुकाबले आधे चिकित्सक काम कर रहे है। दंत चिकित्सक को डेपुटेशन पर लगा रखा है। इस पद पर टेक्नीशियन रिटायर हो चुके है। पिछले एक माह पूर्व महिला रोग विशेषज्ञ कार्यभार ग्रहण कर वापस नहीं लोटा। वहीं नेत्र रोग, अस्थि रोग बेहोशी के चिकित्सक का पद पिछले तीन साल से रिक्त हैं। वहीं बाल रोग विशेषज्ञ का अभाव बना हुआ है।

रोगियों की संख्या बढ़ने से दवाओं की कमी आई

^अस्पतालमें भेजी जाने वाली दवाइयों की सप्लाई लगातार रही है, लेकिन रोगियों की संख्या बढ़ने से दवाओं की कमी बनी हुई है। इसके लिए समय समय पर जिला मुख्यालय को सूचनाएं भेजी जाती है। डाॅ.द्वारकालाल मीणा, ब्लाॅक सीएमएचओ अकलेरा

अकलेरा. अस्पताल में मौसमी बीमारियों के चलते मरीजों की संख्या डबल हो गई है।

खबरें और भी हैं...