जैसलमेर

--Advertisement--

हमीरा सोनू के बीच जल्द ही बिछेगी रेल लाइन

लाइम स्टोन से जोधपुर रेलवे कमाई में अव्वल जैसलमेरमें निकलने वाले लाइम स्टोन की वजह से जोधपुर रेलवे जोन कमाई में...

Dainik Bhaskar

Nov 15, 2015, 03:21 AM IST
लाइम स्टोन से जोधपुर रेलवे कमाई में अव्वल

जैसलमेरमें निकलने वाले लाइम स्टोन की वजह से जोधपुर रेलवे जोन कमाई में पिछले कई वर्षो से अव्वल चल रहा है। जानकारी के अनुसार जैसलमेर से लाइम स्टोन की रोजाना एक मालगाड़ी लोड होकर जाती है। इसका माल भाड़ा करीब एक करोड़ रुपए रोजाना रेलवे को मिलता है जिसके चलते जोधपुर जोन कमाई में अव्वल है।

लदान में करोड़ों खर्च

वर्तमानमें सोनू लाइम स्टाेन खदान से ट्रकों के माध्यम से लाइम स्टोन को जैसलमेर रेलवे स्टेशन तक पहुंचाया जा रहा है। इसके बाद जेसीबी के माध्यम से माल गाड़ी को लोड किया जाता है। इस प्रक्रिया में समय लगने के साथ साथ आरएसएमएम को करोड़ों रुपए अतिरिक्त भी खर्च करने पड़ते हैं। लेकिन अब लाइन बिछने के बाद यह काम आसानी से हो सकेगी।

यह है प्रोजेक्ट

इसप्रोजेक्ट की कुल लागत करीब 262 करोड़ रुपए है। आरएसएमएम ने आधी राशि अपने हिस्से से दी है। इस लाइन के तहत लाणेला में एक स्टेशन भी बनाया जाएगा। रेल लाइन की कुल लम्बाई साढ़े अठावन किलोमीटर है। इसे पूरा होने में दो साल की अवधि लगेगी। उसके बाद मालगाड़ियां जैसलमेर रेलवे स्टेशन की बजाय सीधे ही सोनू लाइम स्टोन तक जा सकेगी।

सीमेंट फैक्ट्रियों की राह होगी आसान

दूसरीतरफ जैसलमेर में सीमेंट फैक्ट्रियों की स्थापना की कवायद भी चल रही है। जैसलमेर में सीमेंट ग्रेड लाइम स्टोन के 18 ब्लॉक चिह्नित है। इसमें से दो या तीन ब्लॉक की नीलामी आगामी समय में संभव है। ये ब्लॉक सोनू क्षेत्र के आसपास ही है। ऐसे में जब सीमेंट कंपनियों को वहां तक रेल लाइन की सुविधा मिलेगी तो उनके लिए और भी आसानी रहेगी।

सफेदआंधी से मिलेगा छुटकारा

वर्तमानमें जैसलमेर रेलवे स्टेशन की लाइम स्टोन के कारण बुरी स्थिति है। इतना ही नहीं स्टेशन के आसपास के इलाकों में रहने वालों के लिए लाइम स्टोन से उड़ने वाली आंधी मुसीबत बनी हुई है। इस इलाके में दिन रात सफेद रंग आंधी की स्थिति बनी रहती है। जानकारी के अनुसार इस इलाके में लाइम स्टोन से उड़ने वाली धूल से कई लोगों को अस्थमा की बीमारी भी लग चुकी है। लेकिन अब इस मुसीबत से छुटकारा मिलने वाला है।

^हमीरा सोनू के बीच रेल लाइन के टैंडर जारी हो चुके हैं और 17 नवंबर को टैंडर निकाले जाएंगे। इसके बाद यह काम शुरू हो जाएगा। करीब 262 करोड़ का यह प्रोजेक्ट दो साल में पूरा होगा। गोपालशर्मा, पीआरओ, रेलवे, जोधपुर

जैसलमेर. हमीरा से सोनू के बीच रेल बिछने के बाद परेशानियों से मिलेगा छुटकारा।

स्टेशन : लाणेला

लम्बाई : 58 किमी

अवधि : 2 साल

प्रोजेक्ट लागत : 262 करोड़

रेलवे ने 58 किलोमीटर लम्बी रेल लाइन के निकाले टैंडर

सुधीर थानवी . जैसलमेर

हमीरासोनू के बीच जल्द ही रेल लाइन बिछाने का काम शुरू हो जाएगा। पिछले एक दशक से चल रही कवायद अब पूरी होने वाली है। गौरतलब है कि इस रेल लाइन का पहले दो बार सर्वे हो चुका है। गत बजट में एक बार फिर इस रेल लाइन को लेकर कवायद शुरू हुई थी। उसके बाद आरएसएमएम ने अपनी हिस्सा राशि भी रेलवे को जमा करवा दी थी, लेकिन रेलवे की ओर से इस लाइन का काम शुरू नहीं किया गया। आखिरकार अब रेलवे ने इस लाइन को बिछाने के लिए कमर कस ली है और इस कार्य के लिए टैंडर जारी कर दिए हैं। 17 नवंबर को टैंडर निकाले जाने के बाद लाइन बिछाने का काम शुरू हो जाएगा।

रेलवेलाइन की जरूरत

जैसलमेरसे करीब 55 किलोमीटर दूर सोनू क्षेत्र में लाइम स्टोन का अथाह भंडार है। पिछले दो दशक से लाइम स्टोन का खनन चल रहा है। इसके तहत यहां का लाइम स्टोन ट्रकों से जैसलमेर रेलवे स्टेशन तक लाया जाता है और फिर वहां से मालगाड़ी के माध्यम से स्टील फैक्ट्रियों तक जाता है। इस कार्य में 200 से अधिक टर्बो रोजाना दो से तीन चक्कर करते हैं तब जाकर रोजाना एक मालगाड़ी की भराई होती है। हमीरा से सोनू तक रेल लाइन बिछाने को लेकर पिछले एक दशक से कवायद चल रही थी, जिससे लाइम स्टोन सीधे सोनू में ही रेलवे मालगाड़ी में भराई हो सके।

X
Click to listen..