• Hindi News
  • National
  • गोडावण प्रजनन क्षेत्र में क्लोजर की तारबंदी को और मजबूत किया

गोडावण प्रजनन क्षेत्र में क्लोजर की तारबंदी को और मजबूत किया

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
गतदो सालों से जैसलमेर में गोडावण के प्रजनन में बढ़ोतरी देखी गई। हालांकि प्रजनन हर बार होता था लेकिन इस बार क्लोजर बढ़ने से नन्हें गोडावण भी नजर आने लगे हैं। उससे पहले तक क्लोजर कम होने से सुरक्षा कमजोर होने से गोडावण के अंडों को सुअर श्वान नुकसान पहुंचा देते थे। लेकिन अब क्लोजरों की संख्या बढ़ने तारबंदी हो जाने से काफी हद तक गोडावण सुरक्षित हो गए हैं। रामदेवरा क्षेत्र में गोडावण का प्रजनन क्षेत्र होने से वहां अभी भी श्वान सुअरों का आतंक है।

पिछले कुछ वर्षों में देखने को मिला है कि गोडावण रामदेवरा के आसपास प्रजनन ज्यादा कर रहे हैं। गोडावण के लिए वह अनुकूल इलाका माना जा रहा है। जिसके चलते गोडावण इस क्षेत्र में प्रजनन कर रहे हैं। पिछले साल सर्वाधिक प्रजनन रामदेवरा क्षेत्र में ही हुए हैं।

अब तारबंदी के नीचे कंकरीट का बेस

डीएनपीने रामदेवरा क्षेत्र में गोडावण के प्रजनन को देखते हुए सुरक्षा घेरा मजबूत करने के लिए कदम उठाए हैं। आगामी मार्च में गोडावण के प्रजनन का समय है। ऐसे में उससे पहले तक यह कार्रवाई पूरी की जानी है। डीएनपी इस क्षेत्र में तारबंदी के नीचे कंकरीट का बेस तैयार कर रही है ताकि श्वान सुअर अंदर नहीं घुस सके। काम शुरू हो चुका है और 100 मीटर का गेप रखा गया है। आखिर में इस गेप से सभी जानवरों को बाहर निकालकर कंकरीट का बेस तैयार कर पूरी तारबंदी कर दी जाएगी।

^रामदेवरा क्षेत्र में गोडावण का प्रजनन ज्यादा हुआ है। इसके चलते इस बार मार्च से पहले इस क्षेत्र के सुरक्षा घेरे को मजबूत किया जा रहा है। तारबंदी के नीचे कंकरीट बेस तैयार किया जा रहा है ताकि श्वान सुअर अंदर प्रवेश नहीं कर सके। अनूपके.आर., डीएफओ, डीएनपी

रामदेवरा के गोडावण क्षेत्र में श्वानों सुअरों का है आतंक

फिलहालरामदेवरा के गोडावण क्षेत्र में बड़ी संख्या में श्वानों सुअरों का आतंक देखा जा रहा है। बड़ी संख्या में सुअर इस इलाके में है और वे आगामी मार्च में गोडावण के अंडों को नुकसान पहुंचा सकते हैं। ऐसे में कंकरीट बेस और उस पर तारबंदी हो जाने से श्वान सुअर इस क्षेत्र में घुस नहीं सकेंगे।

जैसमलेर. गोडावण।

खबरें और भी हैं...