पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • National
  • ‘देश पर संकट हो तो प्राणों से प्रिय वस्तु का भी मोह छोड़ देना चाहिए’

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

‘देश पर संकट हो तो प्राणों से प्रिय वस्तु का भी मोह छोड़ देना चाहिए’

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
स्व.राधाकृष्ण ओझा गगन महाराज परिवार द्वारा पुष्करणा भवन जैसलमेर चल रही श्रीमद्भागवत कथा के छठे दिन की कथा प्रारंभ करते हुए कथा वक्ता शैलेंद्र व्यास ने भगवान की अनेक लीलाओं में श्रेष्ठतम रास लीला का वर्णन करते हुए बताया कि रास का अर्थ यह नहीं है कि एक पुरुष अनेक स्त्रियों के साथ नृत्य किया जाए रास तो जीव का शिव के मिलन की कथा है। यह काम को बढ़ाने की नहीं काम पर विजय प्राप्त करने की कथा है। इस कथा में कामदेव ने भगवान पर खुले मैदान में अपने पूर्व सामर्थ्य के साथ आक्रमण किया है परंतु वह भगवान को पराजित नहीं कर पाया उसे ही परास्त होना पड़ा है। अतः रास लीला में जीव का शंका करना या काम को देखना ही पाप है। व्यास ने कहा जब तब जीव में अभिमान आता है भगवान उनसे दूर हो जाते हैं।

मथुरा लीला प्रसंग विस्तार से सुनाते हुए बताया कि कृष्ण 11 वर्ष तक ब्रज में रहे, संसार को कंस के भय से मुक्त करने के लिए अपने प्राण प्यारेे नंद जसोदा, गोप गोपियां, गाय बछड़ों को भी छोड़ चले अर्थात जब देश पर संकट हो तो उसे संकट मुक्त करने के लिए अपने प्राणों से भी प्रिय वस्तु को छोड़ने में देर नहीं करनी चाहिए। कृष्ण ने मथुरा प्रवेशकर कंस असुर का वध किया तथा नाना उग्रसेन को मथुरा का राजा बनाया। कृष्ण भगवान रुक्मणी के अतिरिक्त अन्य विवाहों का भी वर्णन करते हुए कथा को विश्राम दिया गया। कथा के दौरान भजन गायक राजेंद्र व्यास ने सुंदर भजन प्रस्तुत किया।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- व्यक्तिगत तथा पारिवारिक गतिविधियों में आपकी व्यस्तता बनी रहेगी। किसी प्रिय व्यक्ति की मदद से आपका कोई रुका हुआ काम भी बन सकता है। बच्चों की शिक्षा व कैरियर से संबंधित महत्वपूर्ण कार्य भी संपन...

    और पढ़ें