पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • टीवी सीरियल मोबाइल से भारतीय संस्कृति का पतन: बालयोगी

टीवी सीरियल मोबाइल से भारतीय संस्कृति का पतन: बालयोगी

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पनवाड़

झालरापाटन|माता पिताकी सेवा बड़ी कोई सेवा नहीं है, इसलिए माता पिता की सेवा करनी चाहिए। जिस परिवार में छल-कपट रहता है, परमात्मा उस घर से दूर ही रहता है। यह उपदेश आनंदधाम मंदिर समिति तत्वावधान में आयोजित गणपति प्राण प्रतिष्ठा, सवा लाख महामत्युंजय जाप एवं पार्थिव शिवलिंग निर्माण अनुष्ठान के अर्तंगत रामकथा में वृंदावन से आए संत श्री रामजी बाबा कोकिल ने कहे। इससे पूर्व कार्यक्रम के मुख्य यजमान लक्ष्मीकांत गोयल ने रामायण की महाराज का विधिविधान से पूजाकर कथा की शुरूआत की। इसमें एसडीएम रामचरण शर्मा, महेश परिहार, आरिफ मंसूरी, हेमन्त शर्मा, नलिन लुहाडिया ने कोकिल बाबा का माला पहनाकर स्वागत किया।

अकलेरा|नगरमें भागवत कथा का आयोजन चल रहा है। कथा के पांचवे दिन बालयोगी महाराज ने बताया कि मानव शरीर प्राप्त करने के बाद जो भगवत प्राप्ति नहीं करता वो व्यक्ति आत्महत्या के बराबर ही पाप करता है।

पनवाड़|आकोदियाके नहर पर केतवाले मारुति नंदन हनुमान मंदिर पर आयोजक 103 महिलाओं के एकादशी उद्यापन के उपलक्ष्य में महिला मंडल की ओर से पांच दिन से भागवत कथा का आयोजन किया जा रहा है। कथा में सोमवार को मध्यप्रदेश के कथावाचक वंदना शर्मा ने बताया कि शरीर में बैठे मन की डोरी भगवान से लगालो। धनराज मेहता पूर्व सरपंच भगवती मेहता ने बताया कि इस दौरान यूआईटी कोटा अध्यक्ष रामकुंवर मेहता ने भी कथा में भाग लिया।

खबरें और भी हैं...