पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • छह माह से देऊ गांव में पेयजल संकट

छह माह से देऊ गांव में पेयजल संकट

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
खींवसर| उपखंडक्षेत्र सहित कई गांवों में ग्राम पंचायत की लापरवाही के चलते ग्रामीणों को पानी के लिए जूझना पड़ रहा है। ऐसे में लोगों की समस्या पर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। ग्रामीण जगदीश सुथार ने बताया कि गांव में छह महीने से पेयजल की भयंकर समस्या बनी हुई है। ढाणीवासियों को दूरदराज से पानी लाना पड़ रहा है। कई बार ग्राम पंचायत को अवगत कराया मगर कोई सुनवाई नहीं होने से ग्रामीणों में रोष पनप रहा है। स्वामी, मेघवाल, सुथार, साध, भाटियों की ढाणी, सुथारों की ढाणियों में लगे जीएलआर सूख पड़े हैं। गरीब तबके लोगों के लिए टैंकरों से पानी मंगवाना बूते से बाहर है। लोगों को पशुओं को पानी पिलाने के लिए भी भटकना पड़ रहा है। यही स्थिति देऊ फांटा की है। दूसरी ओर से खींवसर के प्रेमनगर झालों की ढाणी में पेयजल पांच महीने से बंद होने से ढाणीवासियों को परेशानी से जूझना पड़ रहा है। इसी तरह ताड़ावास गांव आज पौने तीन माह से पानी के लिए मोहताज है। जलदाय विभाग की लापरवाही के चलते समस्या पर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। ग्रामीणों ने स्थानीय विधायक उद्योग मंत्री को भी अवगत कराया मगर सुनवाई नहीं हुई। इस मामले में ग्राम पंचायत जलदाय विभाग भी उदासीन है जिससे ग्रामीणों में रोष पनप रहा है।