• Hindi News
  • Rajasthan
  • Khiwsar
  • आईपीएल मैच जयपुर में होंगे या नहीं, तय करेगा हाईकोर्ट का फैसला
--Advertisement--

आईपीएल मैच जयपुर में होंगे या नहीं, तय करेगा हाईकोर्ट का फैसला

घरेलूक्रिकेट का सीजन लगभग खत्म होने को है। अब सबकी नजरें आईपीएल पर जा टिकी हैं। 27 और 28 जनवरी को आईपीएल के ऑक्शंस...

Dainik Bhaskar

Jan 11, 2018, 07:15 AM IST
आईपीएल मैच जयपुर में होंगे या नहीं, तय करेगा हाईकोर्ट का फैसला
घरेलूक्रिकेट का सीजन लगभग खत्म होने को है। अब सबकी नजरें आईपीएल पर जा टिकी हैं। 27 और 28 जनवरी को आईपीएल के ऑक्शंस होने हैं। राजस्थान रॉयल्स की भी दो साल बाद वापसी हो रही है लेकिन अभी तक यह पिक्चर क्लीयर नहीं हो पाई है कि आईपीएल के मैच जयपुर में होंगे भी या नहीं। अब सबकुछ 12 जनवरी को हाईकोर्ट में होने वाली सुनवाई पर निर्भर है। जस्टिस भंडारी की कोर्ट क्या फैसला सुनाती है उससे ही जयपुर में आईपीएल की पिच तैयार हो पाएगी।

खेल मंत्री गजेंद्र खींवसर भी लिख चुके हैं बोर्ड सीईओ राहुल जौहरी को चिट्ठी

राजस्थानसरकार में खेलमंत्री गजेंद्र सिंह खींवसर खुद भी बीसीसीआई के सीईओ राहुल जौहरी को इस संबंध में चिट्ठी लिख चुके हैं। उन्होंने इस पत्र में साफ-साफ लिखा था कि सरकार आईपीएल में हरसंभव मदद को तैयार है। लेकिन अब स्थिति बदल चुकी है। बीसीसीआई ने आरसीए का सस्पेंशन खत्म करने की बात कहकर गेंद आरसीए के पाले में डाल दी है। अब देखना यह है कि 12 जनवरी को हाईकोर्ट क्या फैसला सुनाती है।

आरसीए कर्मचारियों को भी कोर्ट से ही आस

जबसे सीपी जोशी आरसीए के अध्यक्ष बने हैं तब से आरसीए कर्मचारियों को वेतन तक नहीं मिला है। लगभग 8 महीने हो गए हैं। पैसे-पैसे को मोहताज हो गए हैं आरसीए कर्मचारी। कई लोग तो कर्ज लेकर अपना खर्चा चला रहे हैं। यहां तक कि इनके मेडिकल कार्ड तक रिन्यू नहीं हुए हैं। अगर कोई बीमार होता है तो इनमें से कई ऐसे लोग भी हैं जो अपना इलाज तक नहीं करा सकेंगे। इन लोगों को भी अब सिर्फ कोर्ट से ही आस है।

हम दिल से चाहते हैं जयपुर में हों मैच

हमाराराजस्थान से पुराना नाता है। हमारी टीम आईपीएल की सबसे पहले चैंपियन बनी थी। टीम के नाम में ही राजस्थान जुड़ा है। इसलिए हम तो दिल से यही चाहते हैं कि जयपुर में ही भी राजस्थान रॉयल्स का बेस हो। राजस्थान के क्रिकेटप्रेमी आईपीएल से वंचित हों। अगर इस बारे में जल्द ही कोई फाइनल फैसला हो जाता है तो हम भी अपनी ओर से तैयारियों में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे।

-रणजीतबारठाकुर, चेयरमैन, राजस्थान रॉयल्स

फरवरी में खत्म हो रहा है आरसीए का एमओयू

आरसीएका एमओयू भी फरवरी में खत्म हो रहा है। आईपीएल के मैच अप्रैल-मई में होने हैं। ऐसे में नए एमओयू में सरकार क्या नई शर्तें लगाती है और आरसीए के साथ एमओयू करती भी है या नहीं। जिस तरह से आरसीए में गुटबाजी है ऐसी स्थिति में तो आरसीए के बैनर तले आईपीएल होना नामुमकिन ही लग रहा है।

एडमिनिस्ट्रेटर बिठाना ही हो सकता है इसका हल

आरसीएकी गुटबाजी खत्म नहीं होती है तो जयपुर में आईपीएल के मैच होना मुश्किल है। और वाकई जयपुर में आईपीएल मैच होने हैं तो यह निर्भर करेगा हाईकोर्ट पर। ऐसे में हाईकोर्ट के पास सिर्फ और सिर्फ एक ही विकल्प बचता है और वह है एडमिनिस्ट्रेटर बिठाना। दिल्ली में कोर्ट ने एडमिनिस्ट्रेटर बिठाया। जस्टिन सेन की देखरेख में दिल्ली की क्रिकेट में काफी सुधार देखने को मिला है। सीनियर से लेकर जूनियर और महिला टीमों तक के प्रदर्शन में जबर्दस्त सुधार देखने को मिला है। इतना ही नहीं डीडीसीए की बैलेंसशीट भी नेगेटिव से पॉजिटिव हो गई है। आज डीडीसीए लाभ की स्थिति में है। कुछ इसी तरह का कड़ा निर्णय अब राजस्थान की क्रिकेट के लिए भी लेना होगा।

बीसीसीआई ने पिछली ईजीएम में आरसीए का सस्पेंशन कंडीशनली खत्म करने की बात कही थी। लेकिन आरसीए में गुटबाजी अभी भी खत्म नहीं हुई है। ललित मोदी गुट भी बीसीसीआई द्वारा लगाई गई कुछ कंडीशंस को लेकर निराश है। ललित मोदी गुट से जीत कर आए सचिव आर.एस. नांदू से जब इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, ‘बीसीसीआई ऐसी कंडीशन कैसे लगा सकती है कि ललित मोदी से जुड़ा हुआ कोई भी आदमी यदि आरसीए से जुड़ता है तो सस्पेंशन पुन: चालू हो जाएगा। बात ललित मोदी के आरसीए और क्रिकेट से हटने की थी तो उन्होंने खुद ही इस्तीफा दे दिया। अब वे राजस्थान की क्रिकेट में कहीं भी नहीं जुड़े हैं और भविष्य में जुड़ेंगे। लेकिन अन्य लोगों पर बीसीसीआई कैसे शर्त रख सकती हैं।’

X
आईपीएल मैच जयपुर में होंगे या नहीं, तय करेगा हाईकोर्ट का फैसला
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..