• Hindi News
  • National
  • ओटी में डॉक्टर 3 घंटे तक नहीं कर पाए फैसला, एेनवक्त पर गर्भवती को किया रैफर, अजमेर में दिया बच्चे का

ओटी में डॉक्टर 3 घंटे तक नहीं कर पाए फैसला, एेनवक्त पर गर्भवती को किया रैफर, अजमेर में दिया बच्चे काे जन्म

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
डॉ. जैन ने कहा: दो घंटे बाद करना अपने मरीज का ऑपरेशन!

ओटीमें शुक्रवार को डॉ. पंकज जैन सर्जरी के ऑपरेशन कर रहे थे। पहले तो तीनों डॉक्टर्स ने प्रसूता के ऑपरेशन की तैयारी की। इसी बीच डॉ. जैन और महिला डॉ. गुप्ता में बहस हो गई। डॉ. गुप्ता ने महिला की हालत को देखते हुए पहले ऑपरेशन करने के लिए आेटी टेबल मांगी। सर्जन ने पहले सर्जरी के ऑपरेशन करने की बात कही। उन्होंने कहा दो घंटे बाद आप अपने मरीज का ऑपरेशन करना। इस पर परिजनों ने ऐतराज जताया। इसके बाद भड़के सर्जन और निश्चेतक डॉक्टर ने गर्भवती का ऑपरेशन करने से इंकार कर दिया। उन्होंने प्रिया की हालत गंभीर बताते हुए अजमेर रेफर करने को कहा। इधर डॉ. अंजना गुप्ता आखिर तक ऑपरेशन करने के लिए कहती रही लेकिन उनकी किसी ने नहीं सुनी।

परिजनोंने लगाया आरोप: पैसों के लिए मरीजों की जान पर खेलते हैं डॉक्टर

ऑपरेशनथियेटर में प्रसूता के परिजनों को अजमेर रेफर करने पर परिजनों का गुस्सा फूट पड़ा। उन्होंने विरोध शुरू कर दिया। गर्भवती के पति दिनेश सैनी ने आरोप लगाया कि पहले तो ऑपरेशन के लिए सब तैयार थे। दोबारा ऑपरेशन की सामग्री पर्ची पर लिखकर मंगवाई गई। सब कुछ सामान्य चल रहा था। अब ऐसा क्या हो गया जो अचानक रेफर कर रहे है। डॉक्टर्स ऑपरेशन के लिए लड़ रहे है। जो मरीज ज्यादा गंभीर है इमरजेंसी है तो पहले उसका ऑपरेशन करना चाहिए। परिजनों ने आरोप लगाया कि पैसों के लिए डॉक्टर्स मरीजों की जान से खेल रहे हैं।

^ ओटी में एनेस्थिसिया देने वाले डॉ. सैनी सर्जन डॉ. जैन ने ऑपरेशन करने से मना कर दिया। मैंने पहले भी कम कदकाठी वाले कई प्रसूता के ऑपरेशन किए हैं। गुरुवार को सामान्य प्रसव नहीं हुआ। इसलिए ऑपरेशन का निर्णय लिया। ना जाने क्यों दूसरे डॉक्टरों ने ऑपरेशन के लिए मना किया। इस वजह से रेफर करना पड़ा। डॉ.अंजना गुप्ता, गायनिक

^ प्रसूता की लंबाई कम थी। वजन ज्यादा था। यानि शॉर्ट स्ट्रक्चर और शॉर्ट नेक होने के कारण जान को खतरा था। पगर्दन कंधों से सटी हुई थी। ऑपरेशन में रिस्क थी। शॉर्ट नेक होने के कारण उसकी सांस जाने का खतरा था। उस वक्त मुंह में एक नली डलती और वो नली सही नहीं लगे तो मौत हो सकती थी। डॉ.जोगेश्वर सैनी, एनेस्थेटिक

^मैं सर्जरी से जुड़ा ऑपरेशन कर रहा था। मरीज की हालत ऑपरेशन जैसी नहीं थी। उसकी कदकाठी कम होने सहित अन्य कई कारण हैं। इस बारे में एनेस्थिसिया देने वाले डॉक्टर ने पीएमओ को लिखित में दिया है। कल को कुछ हो जाए तो हमारे पर सारी बात आती है। इसलिए गर्भवती को रेफर किया गया। डॉ.पंकज जैन, सर्जन, यज्ञनारायण अस्पताल

प्रसूता प्रिया सैनी

अस्पताल में ऑपरेशन से पूर्व प्रसूता को रैफर करने पर विरोध जताते परिजन।

खबरें और भी हैं...