पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • संस्कृत से ही संस्कृति की रक्षा, इसे बढ़ावा दें

संस्कृत से ही संस्कृति की रक्षा, इसे बढ़ावा दें

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
लालसोट। संस्कृत कॉलेज में संस्कृत शिक्षा के अग्रदूत स्व. पं. कल्याण प्रसाद मिश्र की पुण्य तिथि समारोह पूर्वक मनाई गई। जिसमें संस्कृत शिक्षा में योगदान देने वाले लोगों विद्वानों का स्वागत किया गया।

इस अवसर पर सम्मान समारोह को संबोधित करते हुए पूर्व सरपंच रामबिलास खेमावास, चेयरमैन दिनेश मिश्र तथा प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सचिव कमल मीना ने कहा कि संस्कृत से ही संस्कृति की रक्षा संभव है लोगो को संस्कृत शिक्षा को बढ़ावा देने का काम करना चाहिए। इस अवसर पर चेयरमैन दिनेश मिश्र ने कहा कि संस्कृत कॉलेज में कक्षा 9 में प्रवेश लेने वाले छात्र छात्रा को नि:शुल्क प्रवेश मिलेगा।

इस अवसर पर सामूहिक सुंदरकांड का पठन किया गया। इस अवसर पर अतिथियों द्वारा संस्कृत विद्वान रामेश्वर शास्त्री होदायली, रामेश्वर खांडल, गोकुल चंद शास्त्री, देवकीनंदन निर्झरना, रामस्वरूप शास्त्री, सीताराम शास्त्री, शंकर लाल खांडल, जगदीश टोरडा, कल्याण सहाय जीतपुर, आत्माराम शास्त्री डिडवाना, जमना लाल शर्मा किशोरपुरा, रामावतार शर्मा डोब, रामस्वरूप शास्त्री रिवाली, चौथमल शर्मा सेडूलाई, शुकदेव चतुर्वेदी, ब्रजमोहन बावला, रतनलाल पाटनी, दिवाकर शास्त्री डिडवाना, वैद्य ब्रजमोहन सुकलाव, रामजीलाल सोनी को सम्मानित किया गया।