पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • सामाजिक संगठन भी आए आगे, बोले रात 8 बजे बाद नहीं खुलनी चाहिए शराब की दुकानें

सामाजिक संगठन भी आए आगे, बोले- रात 8 बजे बाद नहीं खुलनी चाहिए शराब की दुकानें

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सरकारने शराब की दुकानों का समय सुबह दस से रात्रि आठ बजे निर्धारित किया है। इसके पीछे मंशा थी कि आठ बजे तक शराब खरीदकर संबन्धित व्यक्ति घर चला जाए। सार्वजनिक स्थान की बजाय वह घर पर बैठकर शराब का सेवन करें ताकि आम नागरिकों को इससे किसी प्रकार की परेशानी हो। इसके विपरीत मकराना में देर रात तक धड़ल्ले से खुले रहने वाली शराब की दुकानों से कानून व्यवस्था भी प्रभावित हो रही है। आए दिन रात्रि में ठेकों के पास शराबियों के आपस में झगड़ने एवं उत्पात मचाने की घटनाएं सामने आती रहती है। आबकारी विभाग की निष्क्रियता के चलते शराब विक्रेताओं के हौसले बुलंद है। शराब की दुकानें रात आठ बजे बाद भी खुली रहने का मुद्दा भास्कर ने रविवार को प्रमुखता से उठाया, जिसका स्थानीय सामाजिक संगठनों ने समर्थन करते हुए आबकारी नियमों का सख्ताई से पालन करवाने की आवश्यकता जताई है। देर रात दुकानें खुली रहने से शराबी राहगीरों से बदतमीजी गाली गलौच तक करते हैं।

16शराबियों को पकड़ा

इसमामले को गंभीरता से लेते हुए मकराना पुलिस ने अब तक 13 शराबियों को पकड़ा है। पुलिस ने छह जनों को गिरफ्तार किया। पुलिस ने शनिवार रात आठ बजे बाद पुलिया फाटक गुणावती क्षेत्र से चार जनों को गिरफ्तार किया है। उन्हें जमानत पर रिहा कियागया। एएसआई श्रवण कुमार ने राकेश लोहार, लिछमणराम, फरान शेख मोहसिम को रात्रि में गिरफ्तार किया। शुक्रवार रात में भी शराब पीकर उत्पात मचाने के आरोप में आठ जनों को गिरफ्तार किया था।

खबरें और भी हैं...