पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • ढील बांध से छोड़ा नहरों में पानी

ढील बांध से छोड़ा नहरों में पानी

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
बांध पर सुरक्षा की अनदेखी

बौंलीतहसील के ढील बांध से सिंचाई के लिए गुरुवार सुबह आठ बजे सिंचाई विभाग के कर्मचारियों एवं जिम्मेदार अधिकारियों की गैर मौजूदगी में बांध के जमादारों द्वारा पूजन के बाद बांध के तीनों गेट को तीन-तीन इंच खोल कर नहर में पानी छोड़ा गया।

सिंचाई विभाग के अनुसार 16 फुट भराव क्षमता वाले ढील नदी बांध में वर्तमान समय में 15 फुट पानी भरा हुआ है। बांध में 891 मिलियन घन फुट पानी मौजूद है। बांध से मलारना डूंगर तहसील के बिच्छी दौना तक 43.43 किलोमीटर मुख्य नहर एवं 47.52 किलोमीटर के 40 माइनर नहरों से बौंली तहसील के 17 मलारना डूंगर के 21 गांव सहित कुल 38 गांव के किसानों की पांच हजार 943 हेक्टेयर भूमि की सिंचाई हो पाएगी। बांध की नहर का पानी टेल तक पहुंचने पर पटवारी की रिपोर्ट के आधार पर बांध से नहर का पानी बंद कर दिया जाएगा, जिसको बाद में दोबारा छोड़ा जाएगा।

अवैधइंजनों की भरमार

जलवितरण समिति कि बैठक में अवैध रूप से नहर की पाळ पर डीजल इंजन लगाकर पानी चोरी करने वालों के खिलाफ कार्रवाई का प्रस्ताव लिया गया था। इसके बाद भी सिंचाई विभाग द्वारा अवैध रूप से पानी चोरी करने वालो पर अंकुश लगाने के कोई प्रबंध नहीं किए गए। नहर खुलने के कुछ समय बाद ही ग्राम पंचायत थड़ोली के पखाला, झोपड़िया एवं बागड़ोली के कई गांवों के दर्जनों किसानों, जो कमांड एरिया में नहीं आते हंै ने अवैध रूप से इंजन लगाकर पानी चोरी का जुगाड़ लगाना शुरू कर दिया है।

मरम्मतसफाई का अभाव

इससाल बांध की 43.43 किमी लम्बी नहर एवं उसके 47.52 किमी लंबे 40 माइनर के मरम्मत सहित बहाव क्षेत्र में सफाई के लिए सिंचाई विभाग द्वारा 5 लाख रुपए का ठेका दिया गया, लेकिन कार्य नहीं हुआ। यहां के िकसान नेता अंगद मीना, भूखा का कहना है िक सिंचाई विभाग द्वारा लाखों रुपए का मरम्मत के नाम पर हर साल ठेका दिया जाता हैं लेकिन ठेकेदार एवं विभागीय अधिकारियों की मिलीभगत के चलते आज तक माइनरों की तो क्या, नहरों तक की मरम्मत सफाई नहीं हो पाई। माइनरों की मरम्मत किसान अपने स्तर पर कई सालों से करवाते रहे हैं। नहर की मरम्मत के अभाव में कमांड एरिया के किसानों को समय पर सिंचाई का पानी मिलना मुश्किल है।

हिंदूपुरा. बांधमें नहाने के लिए मनाही होने के बाद भी जान जोखिम में डालकर नहाता युवक।

हिंदूपुरा. ढीलबांध की तीनों मोरियों से नहर के ल