पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

तप के बिना जीवन व्यर्थ

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भागवत कथा सुनने के बाद मनन करना भी सीखें

भास्कर न्यूज | मालपुरा ग्रामीण

मालपुरामें सोमवार को दिगंबर जैन मंदिर में पू. गणिनी आर्यिका विज्ञाश्री माताजी ने धर्म श्रद्धालुओं के बीच तप की महिमा का वर्णन करते हुए कहा कि तप के बिना संसार का काई भी कार्य सम्भव नहीं है “कर्म क्षयार्थ तत्यते इति तप:” कर्मों के क्षय की भावना से जो साधना की जाती है वह तप है बाकी सब दिखना है। आज तपस्या के नाम पर कई लोग मात्र तन सुखा रहे हंै वह तप नहीं कुतप है।

जिस प्रकार पृथ्वी को बिना खोदे पानी नहीं निकाला जाता, स्वर्ण को बिना तपाए चमक नहीं लायी जा सकती, कमल को बिना सूर्य की किरण दिखाये खिलाया नहीं जा सकता, उसी प्रकार बिना तपस्या के मुक्ति को नहीं पाया जा सकता।

संसार में सभी को किसी भी सफलता के लिए तपना अवश्य पड़ता है। व्यापारी दुकान में घंटों तप करता है। शिक्षक स्कूल में तप करता है, वकील कचहरी में तप करता है डाक्टर हास्पिटल में तप करता है। वैज्ञानिक प्रयोगशाला में तप करता है। ड्राइवर गाड़ी में तप करता है। उद्योगपति फैक्ट्री में तप करता है, महिलाएं चौके में तप करती हैं। ये सभी अपने-अपने उद्देश्य की पूर्ति के लिए तप करते हैं। यह सम्यक तप नहीं कुतप कहलाता है। ये तप भौतिक संपदा दे सकते हैं पर आत्मिक संपदा नहीं दे सकते।

रात्रि में जैन मंदिर में होलेस्टिक पब्लिक स्कूल द्वारा जैन भजन पर विज्ञाश्री भजनों के माध्यम से सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया। सभी दर्शकों ने कार्यक्रम के दौरान तालिया बजाकर बच्चों का उत्साहवर्धन किया।

सभी कार्यक्रमों के पश्चात समाज द्वारा स्कूल के निदेशक विवेक पारीक लक्की पारीक का स्वागत और सम्मान किया गया बच्चों द्वारा दी गई शानदार प्रस्तुतियों पर मदन लाल, प्रवीण कुमार टोरड़ी वालों की ओर से पारितोषिक दिया गया।

भास्कर न्यूज | उनियारा

कस्बेके नैनवां रोड पर स्थित शिवमंदिर में साप्ताहिक कथा में आचार्य पंडित बालकृष्ण शर्मा ने कहा कि मानव को आस्तिक रहकर कथा को मंथन करना चाहिए। कथा में बताए गए भाव को अपने मन में मनन कर चिंतन करें।

शिव मंदिर भी भरोसानंद गिरी के सान्निध्य में आयोजित साप्ताहिक कथा में पंडित बालकृष्ण शर्मा ने कहा कि महर्षि दधीचि कथा, गुरूडगण वृतांत, जयविजय श्राप, नृसिंह अवतार, त्रिपुरवध, समुद्र मंथन कथा, मोहिनी अवतार के बारे में लोगों को समझाया।

कथा के दौरान हरिअवतार, रामवतार, बामन अवतार आदि की झांकियां प्रस्तुत की गईं। इस अवसर पर सूरजमल शर्मा, रिषी शर्मा, कैलाश शर्मा, सत्यनारायण शर्मा, सत्यनारायण कुमावत, मोरपाल मीणा, हरिओम सोनी सहित कई श्रद्धालु मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आप किसी विशेष प्रयोजन को हासिल करने के लिए प्रयासरत रहेंगे। घर में किसी नवीन वस्तु की खरीदारी भी संभव है। किसी संबंधी की परेशानी में उसकी सहायता करना आपको खुशी प्रदान करेगा। नेगेटिव- नक...

    और पढ़ें