• Hindi News
  • National
  • सत्संग करने से बढ़ेगा ज्ञान : स्वामी दयानंद

सत्संग करने से बढ़ेगा ज्ञान : स्वामी दयानंद

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भीलवाड़ा | संतदयानंद महाराज ने कहा कि मनुष्य के ज्ञान का विस्तार भगवान की पूजा, सत्संग, भक्ति एवं संस्कार आदि मार्गों को अपनाने से होगा। रामधाम रामायण मंडल ट्रस्ट की ओर से रामधाम में चातुर्मास सत्संग के दूसरे दिन श्रद्घालुओं से उन्होंने कहा कि भगवत मार्ग पर चलने से ही व्यक्ति को अति आनंद की अनुभूति होगी। उन्होंने ‘भज गोविंदम बालमुकुंदम परमानंद हरे-हरे’ भजन गाया तो श्रद्वालु झूम उठे। ट्रस्ट के संरक्षक स्वामी नित्यानंद महाराज ने कहा कि वे अपने चरित्र को चरितार्थ करें। प्रारंभ में शांतिलाल पोरवाल, नंदूदेवी लढा, शांता बियाणी एवं सुनीता दाधीच ने महाराज का अभिनंदन किया।

संसार में रहना बुरा नहीं लेकिन उसमें फंसना बूरा: संत अमृतराम

भीलवाड़ा | सनातनधर्म के शास्त्रों में गृहस्थ आश्रम को धन्य माना है। गृहस्थ आश्रम में जीवन जीने वाला अपने परिवार के लिए तो कर्म करता ही है। उसके साथ समाज धर्म राष्ट्र धर्म के प्रति भी अपने दायित्वों का निर्वाह भी करता है। यह विचार रामद्वारा में आयोजित धर्मसभा में संत अमृतराम ने व्यक्त किए। घर की व्याख्या करते हुए उन्होंने बताया कि घर का मतलब सीमेंट, सरिए एवं कंकरीट से बनाया मकान ही नहीं होता।

खबरें और भी हैं...