पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • चचेरे भाइयों ने ही की थी आदिवासी युवक की हत्या

चचेरे भाइयों ने ही की थी आदिवासी युवक की हत्या

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
> 15 दिन पूर्व एक आदिवासी युवक की हत्या के मामले में चचेरे भाई गिरफ्तार

> पूर्व में दिए गए चांदी के कड़े वापस लेने को लेकर था विवाद

भास्कर न्यूज | रोहिड़ा

निकटवर्तीरणोराफली में 22 अक्टूबर की शाम को एक आदिवासी युवक की सिर पर पत्थरों के वार कर हत्या करने के मामले में पुलिस ने गुरुवार को उसी के दो चचेरे भाइयों को रणोराफली के जंगलों से गिरफ्तार किया। इस मामले में मृतक के भाई ने चचेरे भाइयों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कराया था। पुलिस के अनुसार पुलिस डीएसपी माउंट आबू प्रीति कांकाणी के निर्देशन में टीम गठित कर 22 अक्टूबर की शाम को रणोराफली निवासी बाबू पुत्र भूराराम गरासिया की सिर पर पत्थरों के वार कर हत्या करने के मामले में आरोपियों की तलाश शुरू की थी। थानाधिकारी किशनदास ने बताया कि पत्थर मार कर चचेरे भाई की हत्या करने के मामले में उपली फली रणोरा निवासी पंपु उर्फ फकुरा पुत्र नाना गरासिया गुला पुत्र नाना गरासिया को रणोरा के जंगलों से दस्तयाब किया गया। पूछताछ करने पर उन्होंने बाबू गरासिया की हत्या करना कबूल किया, जिस पर पुलिस ने दोनों आरोपियों को गिरफ्तार किया है।

यहथा मामला : पुलिसके अनुसार रणोराफली निवासी मृतक के भाई परथा पुत्र भूराराम गरासिया ने उसके दो चचेरे भाइयों के खिलाफ हत्या का नामजद मामला दर्ज करवाया था। रिपोर्ट में बताया था कि 22 अक्टूबर को परथा और उसका बड़ा भाई बाबू पुत्र भूराराम गरासिया दीपावली का सामान खरीदने के लिए दानबोर गए थे। वापस लौटने पर उपलीफली रणोराफली निवासी उसके चचेरे भाई पंपु उर्फ फकुरा पुत्र नाना गरासिया गुला पुत्र नाना गरासिया दोनों ने बाबू के सिर पर पत्थर मारे, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई।

चांदी के कड़ले वापस मांगने पर की हत्या

थानाधिकारीकिशनदास ने बताया कि रणोराफली में साल भर पहले गुला गरासिया के पिता नाना गरासिया का देहांत हो गया था, जिसके अंतिम संस्कार के लिए गुला के पास रुपए नहीं थे। गुला के पिता के अंतिम संस्कार के लिए रणोराफली निवासी उसके चचेरे भाई बाबू पुत्र भूरा गरासिया ने उसकी प|ी के चांदी के कड़ले निकाल कर गुला गुला को दिए थे। जो कड़ले बारह माह गुजर जाने के बाद भी गुला ने बाबू को वापस नहीं दिए थे। इस पर बाबू ने गुला से चांदी के कड़ले वापस मांगे। इस पर गुला उसके भाई पंपु उर्फ फकुरा दोनों ने बाबू के साथ झगड़ा किया।