पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • तीन दशक बीते, नहीं बदले हालात

तीन दशक बीते, नहीं बदले हालात

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
नगरनिगम क्षेत्र के वार्ड संख्या 49 स्थित शिव नगर कॉलोनी के वाशिंदों को तीन दशक गुजर जाने के बाद भी विकास का इंतजार है। यहां करीब 50 फीसदी गलियों में अभी तक सीसी सड़क नालियों का निर्माण नहीं कराया गया है। जिन गलियों में नगर निगम द्वारा सड़क और नालियों का निर्माण कराया है वहां भी निर्माण कार्य तकनीकी रूप से सही नहीं है।

इस कारण घरों से निकलने वाला गंदा बरसाती पानी नालियों आसपास के खाली प्लाटों में जमा होने से लोग परेशान हैं। करीब चार-पांच बीघा सरकारी जमीन होने के बावजूद भी यहां पार्क विकसित नहीं किया जा सका है। इस जमीन पर भूमाफियाओं के कब्जे की आशंका है। कॉलोनी में रोड लाइट के खास इंतजाम नहीं हैं और सफाई की पुख्ता व्यवस्था नहीं होने से स्थानीय नागरिकों को परेशानी से जूझना पड़ रहा है। कॉलोनीवासियों द्वारा संबंधित अिधकारियोंं से बार-बार शिकायत के बाद भी समस्या जस की तस बनी हुई है।

भरतपुर. नालियों के अभाव में शिव नगर की सड़कों पर जमा गंदा पानी।

तीन दशक से विकास का इंतजार

सरकूलररोड स्थित सिंघल ऑयल मिल के पीछे 30 साल पूर्व शिव नगर कॉलोनी बसी। एक वर्ग किलोमीटर एरिया में करीब 800 प्लॉटों में से 700 प्लॉटों पर लोगों ने आवास बना रखे हैं। इनमें से करीब 90 फीसदी लोगों ने नगर विकास न्यास से कन्वर्जन भी करा रखा है। 4-5 हजार की आबादी वाली इस कॉलोनी में लगा डीप बोर एक साल से खराब पड़ा है। इसके अलावा कई बीघा सिवायचक जमीन होने के बावजूद भी पार्क, स्कूल, डिस्पेंसरी, सामुदायिक भवन आदि का निर्माण नहीं कराया गया है।

गंदे पानी की निकासी के लिए कॉलोनी में पुख्ता व्यवस्था नहीं है। इसके कारण गलियों में जगह जगह पानी जमा रहता है। बरसात के दिनों में तो जल प्लावन के हालात बन जाते हैं। -रेखा मीणा

पर्याप्त रोड लाइट नहीं होने से रात्रि के समय कालोनी की गलियों में अंधकार रहता है। आवागमन में तो परेशानी होती ही है समाजकंटक भी अंधेरे का लाभ उठाने से नहीं चूकते। -विष्णु सिंह

कहीं सड़क तो कहीं नालियां नहीं बनाए जाने से शिव नगर का विकास आधा-अधूरा है। सड़क-नाली के निर्माण में घटिया सामग्री के उपयोग के कारण टूटने लगी हैं।

-जीतू पहलवान

नगर निगम द्वारा यहां तो सफाई कराई कराई जाती है और ही कचरा पात्र रखवाए गए हैं। इसके कारण गंदगी का रहती है। समय पर कचरे का उठाव भी नहीं होता। -सीमा लवानिया

कई