पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • National
  • आप बहुत अच्छे हैं तो शीर्ष लोग आपको चुनेंगे

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

आप बहुत अच्छे हैं तो शीर्ष लोग आपको चुनेंगे

6 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
स्टोरी 1: भोपालके हर्ष सोनगरा आठ साल पहले सिर्फ 11 साल के थे, तब पता चला था कि उन्हें डिसप्राक्सिया है। यह तालमेल की कमी से विकास में बाधा से संबंधित बीमारी है। यह बच्चों, बड़ों में कभी-कभी बोलने की समस्या के रूप में सामने आती है। इसका मतलब है कि बच्चे स्वयं की देखभाल करने, लिखने, टाइप करने या बाइक चलाने में समस्या का अनुभव करते हैं। बड़े होने पर भी यह कार चलाने जैसी नई विधाएं सीखने में परेशानी पैदा करती है।

हालांकि, इस बीमारी की असल वजह का अभी तक पता नहीं है। माना जाता है कि दिमाग शरीर को त्रुटिपूर्ण संदेश देता है। इससे कुछ खास परिस्थितियों में तालमेल के साथ प्रतिक्रिया करने की व्यक्ति की क्षमता प्रभावित होती है। बीमारी साध्य नहीं है, लेकिन समय के साथ बच्चा सुधार कर सकता है और बच्चे में जितनी जल्दी इसका पता चल जाए उतनी तेजी से वह जीवन में सुधार कर सकता है। हर्ष ने इस समस्या को खुद के लिए दया का कारण नहीं माना, बल्कि माता-पिता का सहयोग करने के संकल्प से समस्या को कम उम्र में ही पहचानने में मदद की। जनवरी 2015 में 19 साल की उम्र में भोपाल स्कूल ऑफ सोशल साइंस के इस छात्र ने एक एंड्रॉइड एप बनाया जिसका नाम है, ‘माय चाइल्ड\\\'। यह एप सिर्फ 45 मिनट में यह बता सकता है कि बच्चे में कहीं विकास से जुड़ी किसी बीमारी की समस्या तो नहीं है। एप की गणना बच्चे की हाइट, वजन और लिंग के मूलभूत मानदंडों पर होती है।

इत्तफाक से सोनगरा का एप जब लॉन्च हुआ तभी फेसबुक का ‘एफबी स्टार्ट प्रोग्राम\\\' शुरू हुआ, जिसका मकसद दुनियाभर में तकनीक से जुड़े नए विचारों और कामों को सहयोग देना और आगे बढ़ाना है। इसमें हर्ष के एप का चयन भी हुआ। उन्हें इस साल बेंगलुरू में फेसबुक के एक कार्यक्रम में प्रेजेंटेशन देने के लिए बुलाया गया था, जहां उनकी बात किसी और से नहीं बल्कि खुद फेसबुक की चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर शेरिल सैंडबर्ग ने सुनी। बाद में उन्होंने हर्ष को फेसबुक अकाउंट पर फ्रेंडशिप रिक्वेस्ट भी भेजी। अपने फेसबुक अकाउंट पर उन्होंने लिखा, ‘हम हर्ष जैसे डेवलपर्स को सहयोग कर रहे हैं, जिनके पास शानदार आइडिया है, लेकिन उनके पास जरूरी संसाधन नहीं होते\\\'। इस फेसबुक रिक्वेस्ट के बाद हर्ष का जीवन बदल गया और बदलती दुनिया के लिए कुछ नया बनाने की उनकी जिम्मेदारियां कई गुना बढ़ गईं।

स्टोरी2: दीपकरवींद्रन केरल के छोटे-से कस्बे केसरगढ़ के कॉलेज ड्रॉपआउट हैं। 2007 में जब उन्होंने कस्बे के ही लाल बहादुर शास्त्री कॉलेज में प्रवेश लिया था तो वे अपने स्टार्ट अप पर भी प्रयोग के तौर पर काम कर रहे थे। सौभाग्य से उनकी कंपनी को आईआईएम अहमदाबाद ने अपने एक्सीलरेटर प्रोग्राम के लिए चुना और उसे 3.5 लाख रुपए की फंडिंग दी, लेकिन शर्त यह थी कि उन्हें अपनी कंपनी को गुजरात ले जाना था। एक महीने तक परिवार और दोस्त यही समझते रहे कि उसे आईआईएम अहमदाबाद में प्रवेश मिला गया है। विकल्प एकदम साफ था। कॉलेज या आईआईएम एक्सीलरेटर प्रोग्राम। वे तथा उनके तीन दोस्तों ने कॉलेज छोड़ा और अहमदाबाद गए। इन्होंने आइनॉज लॉन्च किया, जो एसएमएस आधारित सर्च इंजन था। इसके बाद उन्होंने डेटा लोडिंग ओवर वॉइस टेक्नोलॉजी लॉन्च की, लेकिन 2014 में दीपक ने दोनों को जोड़ दिया और लुकअप पेश किया। लुकअप एक हाइपर-लोकल मैसेजिंग एप है, जो व्यापार को स्थानीय उपभोक्ताओं से जोड़ता है। तुरंत ही दो लोगों ने इस कंपनी में सहभागी बने-इन्फोसिस के कृष गोपालकृष्णन और ट्विटर के को-फाउंडर बिज स्टोन। कृष और बिज एक बात जानते हैं कि तकनीक हाइपर-लोकल होने वाली है और बेहतर होगा कि इस दिशा में तेजी से आगे बढ़ा जाए। आज ये ड्रॉपआउट इस कॉलेज के सबसे बड़े नियोक्ता हैं।

फंडायह है कि अगरआप अपने कार्यक्षेत्र में श्रेष्ठ हैं तो दुनिया के शीर्ष पांच प्रतिशत लोग जो नए विचारों, नए बिजनेस की तलाश में हैं बिना किसी संशय के आपको चुन लेंगे, लेकिन आपको सही में बहुत अच्छा होना होगा। raghu@dbcorp.in

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- समय अनुसार अपने प्रयासों को अंजाम देते रहें। उचित परिणाम हासिल होंगे। युवा वर्ग अपने लक्ष्य के प्रति ध्यान केंद्रित रखें। समय अनुकूल है इसका भरपूर सदुपयोग करें। कुछ समय अध्यात्म में व्यतीत कर...

    और पढ़ें