• Hindi News
  • National
  • वार्ड 29 30 के डीलर कई महीनों से फर्जीवाड़ा कर उठा रहे राशन

वार्ड 29 30 के डीलर कई महीनों से फर्जीवाड़ा कर उठा रहे राशन

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
नगरपालिका क्षेत्र बाड़ी के वार्ड नंबर 29 30 का डीलर कई माह से दर्जनों गरीब लोगों का राशन डकारने में लगा है। इसकी पोल तब खुली जब लोगों ने मित्र से अपने राशन का ऑनलाइन रिकॉर्ड निकलवाया। इस पर पीड़ितों ने पुख्ता दस्तावेजों सहित जिला कलेक्टर से शिकायत की है। जानकारी के मुताबिक नगर पालिका बाड़ी के वार्ड नंबर 29 30 के निवासी मुरारीलाल, विशंभर, सुरेश सहित दो दर्जन से अधिक लोगों को किसी माह राशन तेल मिलते हैं तो किसी माह नहीं मिलते तथा किसी माह कम दिए जाते हैं। इसे लेकर पीड़ितों ने कई बार जिला रसद अधिकारी सहित अन्य अधिकारियों से शिकायत की। लेकिन समस्या का हल नहीं हुआ। इस पर पीड़ितों ने मित्र से अपने राशनकार्डोँ का ऑनलाइन रिकॉर्ड निकलवाया तो वे डीलर की घपलेबाजी देखकर आश्चर्यचकित रह गए। डीलर द्वारा जितना राशन लोगों को दिया गया है, जिसकी राशनकार्ड में एंट्री भी डीलर ने की है। उससे तीन गुना तक आनॅलाइन पोर्टल पर देना दर्ज है। इसके अलावा केरोसिन चीनी में भी घपलेबाजी की गई है। इसे लेकर बुधवार को पीड़ित डीलर द्वारा की गई घपलेबाजी के पुख्ता दस्तावेज लेकर कलेक्टर से मिले और बकाया का राशन आदि दिलवाकर डीलर के खिलाफ उचित कानूनी कार्रवाई करने की मांग की। साथ ही पीड़िताें द्वारा कलेक्टर को ज्ञापन भी सौंपा गया है।

22 पीड़ितों ने सौंपे घपले के पुख्ता दस्तावेज

बाड़ीके पीड़ित 22 उपभोक्ताओं ने कलेक्टर को डीलर द्वारा की गई घपलेबाजी के दस्तावेज सौंपे हैं। जिनमें सुरेश पुत्र भोंदली निवासी सैंपऊ रोड़ बाड़ी द्वारा सौंपे गए पुख्ता दस्तावेज में बताया गया है कि डीलर द्वारा 14 अगस्त 20 सितम्बर को 20-20 किलो गेहूं दिए गए हैं। जो कि राशनकार्ड में भी दर्ज हैं। जबकि ऑनलाइन पोर्टल पर 45-45 किलो की एंटी बोल रही हैं। इसी प्रकार रतन सिंह पुत्र मिठ्ठनलाल निवासी सैंपऊ रोड़ मंदिर के पीछे बाड़ी द्वारा सौंपे गए दस्तावेजों में बताया गया है कि डीलर द्वारा 10 नवम्बर को 30 किलो गेहूं दिए गए जबकि पाेर्टल पर 35 किलो की एंट्री है। 21 सितम्बर को ढ़ाई लीटर केरोसिन दिया गया जबकि पोर्टल पर 8 लीटर की एंट्री है। इसी प्रकार यही के निवासी मुरारीलाल पुत्र नत्थी ने बताया कि 10 नवम्बर को डीलर ने 30 किलो चीनी दी जबकि पोर्टल पर 35 किलो, 29 सितम्बर को 4 लीटर केरोसिन दिया जबकि पोर्टल पर 8 लीटर की एंट्री है। 10 नवम्बर को ढ़ाई किलो चीनी दी गई जबकि पोर्टल पर 18 किलो की एंट्री है। इसी प्रकार कलेक्टर को 22 पीड़ितों ने डीलर द्वारा की जा रही घपलेबाजी के पुख्ता दस्तावेज सौंपे गए हैं।

खबरें और भी हैं...