पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • कार्तिक पूर्णिमा पर सरोवरों में स्नान किया

कार्तिक पूर्णिमा पर सरोवरों में स्नान किया

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर न्यूज | राजसमंद/नाथद्वारा

जिलेेभर में कार्तिक पूर्णिमा का पर्व गुरुवार को विभिन्न अनुष्ठानों एवं पुण्यदान के साथ मनाया गया। इस दिन पूरे कार्तिक माह तक व्रत करने वाले लोगों ने सूर्योदय से पूर्व विभिन्न सरोवरों में स्नान कर पूजा-अर्चना की। इधर, नाथद्वारा क्षेत्र में शाम को महिलाओं ने यमुना स्वरूप बनास नदी पर तथा आस-पास के ग्रामीण क्षेत्रों में विभिन्न सरोवरों पर महिलाओं ने दीपदान कर महीने भर से चल रहे व्रत पूजा का उद्यापन किया।

कार्तिक पूर्णिमा के इस पर्व पर नगर ग्रामीण क्षेत्रों के विभिन्न देवालयों में विशेष पूजा-अर्चना एवं अनुष्ठान हुए। नगर में शाम को शाही स्नान करने के लिए महिलाओं युवतियां भारी संख्या में यमुना स्वरूप बनास किनारे पहुंची। जहां महिलाओं ने पूजा-अर्चना कर दीपदान की रस्म निभाई। महिलाओं युवतियों ने नदी में दीपदान करने का भारी उत्साह देखा गया। महिलाओं ने पात्रों कई महिलाओं ने दीपक पत्ते पर रूई की बाती का दीप जला कर पूर्ण श्रद्धा के साथ दीपदान किया। दीपदान का यह कार्यक्रम रात 8 बजे तक चलता रहा।

वैष्णवों की रही चहल-पहल

कार्तिकमाह की पूर्णिमा पर वैष्णवों की खूब चहल-पहल रही। वैष्णव समप्रदाय में पूर्णिमा के दिन दर्शन करने का विशेष महत्व है। साल की बड़ी पूनम मानी जाने वाली कार्तिक पूर्णिमा के दिन गुजरात, महाराष्ट्र, मुम्बई, मध्यप्रदेश सहित अन्य प्रांतों से श्रद्धालुओं की अपार भीड़ उमड़ी। इस अवसर पर श्रीजी प्रभु को विशेष श्रृंगार धराया गया। सुबह मंगला झांकी से ही गुजराती वैष्णवजनों की अपार भीड़ उमड़ी। कार्तिक पूर्णिमा के दिन लोगों ने कुलदेवता की विशेष पूजा-अर्चना करने की परंपरा रही है। इसके तहत लोगों ने घरों में अपने कुलदेवताओं की पूजा-आरती की।

महीने भर रखा व्रत किया उद्यापन

कार्तिकमास में लोगों ने पूरे माह तक व्रत रखा। वहीं कई लोगों ने पूरे माह उपवास भी रखा। पूर्णिमा के दिन व्रत करने वालों ने व्रत का उद्यापन किया। कुलदेवताओं सहित भगवान भोलेनाथ की महिलाओं ने विशेष पूजा-अर्चना की।

झौर. झौरक्षेत्र के गांवों की युवतियों ने कार्तिक पूर्णिमा के दिन गुरुवार शाम को गोवलिया पिकअप वियर तालाब पर पहुंच कर दीपदान कर दान पुण्य कमाया। इसके साथ ही कार्तिक माह का समापन हुआ। गोवलिया तालाब पर पहुंची युवतियाें ने तालाब की पाल पर बैठकर गीत गाती हुई वहां पर