पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • लघु पुष्कर में लगाई डुबकी

लघु पुष्कर में लगाई डुबकी

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कार्तिकपूर्णिमा पर लघु पुष्कर मांडकलां सरोवर में गुरुवार सुबह शुरू हुआ पवित्र स्नान दिनभर चलता रहा है। सरोवर में हजारों श्रद्धालुओं ने कार्तिक आस्था के साथ डुबकी लगाई। पवित्र स्नान के साथ ही मांडकलां में 20 दिन तक चलने वाले पशु मेले का भी शुभारंभ हो गया। मुख्य अतिथि जिला प्रमुख कल्ली देवी, विशिष्ट अतिथि जिला परिषद सदस्य नरेश बंसल, अध्यक्ष कर रहे देवली प्रधान जगदीश प्रसाद चौधरी आदि की मौजूदगी में ग्राम पंचायत कार्यालय पर ध्वजारोहण के साथ मेले का विधिवत शुभारंभ हुआ। कार्तिक पूर्णिमा के पवित्र स्नान के लिए लघु पुष्कर के नाम विख्यात मांडकलां सरोवर में बुधवार शाम से ही श्रद्धालुओं के आगमन का सिलसिला शुरू हो गया था। श्रद्धालुओं ने रातभर सरोवर के तट पर स्थित मंदिर में आयोजित भजन संध्याओं का भक्ति रस में डूबे रहे। गुरूवार सूर्योदय से पूर्व ही कार्तिक स्नान करने वाली महिलाओं ने सरोवर में स्नान किया तथा सरोवर में दीपदान कर परिवार की सुख- समृद्धि की कामना की। ज्यों- ज्यों समय गुजरता गया सरोवर के तट पर स्थित घाटों को श्रद्धालुओं का जमघट लगा रहा। श्रद्धालुओं ने भगवान धरणीधर, भगवान सत्यनारायण, कल्याणधणी, भगवान देवनारायण, मांडकलेश्वर महादेव, गणेशजी महाराज सहित विभिन्न मंदिरों में पूजा- अर्चना कर भगवान को चूरमा- बाटी का भोग लगाया तथा पूर्णिमा का व्रत खोला।

टोंक|जिलेभर में कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर गुरुवार पवित्र सरोवरों में श्रद्वालुओं ने डुबकी लगाई। जिला मुख्यालय पर बनास नदी में महिलाओं ने सुबह कातिर्क का स्नान कर दीप दान किया। गुरूवार को सुबह जल्दी ही कार्तिक पूर्णिमा पर स्नान को लेकर महिलाएं एवम युवतियां बनास नदी के घाटों पर पहुंचना शुरू हो गई। जहां महिलाओं ने कार्तिक स्नान कर बनास नदी के जल में दीपदान किया। स्नान के बाद महिलाओ ने भगवान सूर्य नारायण के जल भी चढ़ाया। साथ ही कथा सुन पूजा-अर्चना कर सुख-समृद्धि की कामना की।

पीपलू|कार्तिकपूर्णिमा उपलक्ष्य में गुरुवार को महिलाओं ने दिनभर धार्मिक कार्य किए। महिलाओं ने अल सवेरे यहां के भूतेश्वर सरोवर में स्नान किया। इसके बाद यहां के श्रीचारभुजानाथ, श्रीसीताराम, श्री रणछोड़, श्री लक्ष्मण मंदिर में कथा कहानियां सुनी। इसके बाद सत्संग, संकीर्तन किया। श्रीचारभुजानाथ मंदिर में पुजारी गोविंदनारायण पाराशर ने कथा में कार्तिक मास का माहत