पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • डूंगरपुर में 18 हजार उपभोक्ताओं को बिजली सप्लाई देने के लिए एक ही जेईएन

डूंगरपुर में 18 हजार उपभोक्ताओं को बिजली सप्लाई देने के लिए एक ही जेईएन

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
रिक्तपदों के चलते एक अकेले जेईएन के भरोसे डूंगरपुर शहर की बिजली की सप्लाई हैं। शहर डिस्कॉम में तीन जेईएन के पद स्वीकृत है। जिसमें एक कार्यरत है। दो पद रिक्त चल रहे है। पिछले पंद्रह दिनों पहले एक जेईएन को एवीवीएनएल एमडी ने शहर से परतापुर स्थानांतरण कर दिया। जहां पर पहले से ही दो जेईएन कार्यरत थे। वहां अब तीन जेईएन की नियुक्ति हो गई है।

शहर के 18 हजार उपभोक्ताओं के लिए 1 जेईएन ही कार्यरत है। व्यवस्था के लिए पुराने शहर के लिए एक और तहसील चौराह से बाहर नए शहर के लिए दो जेईएन के पद स्वीकृत है। ऐसे में तीन जेईएन के स्वीकृत पद में सिर्फ एक काम कर रहा है। जिससे शहर में एक मात्र जेईएन के होने से बिजली संबंधित समस्याओं का समाधान नहीं होने से उपभोक्ताओं को परेशानी हो रही है।

जेईएनके भरोसे इतने काम

{शहर में 18 हजार उपभोक्ता है। ऐसे में प्रतिदिन 100 से 150 शिकायते रजिस्टर्ड होती है। ऐसे में तकनीकी कर्मचारियों की टीम मॉनिटरिंग और शिकायत निवारण की जिम्मेदारी निभानी पड़ती है।

{ प्रतिदिन शहर ऑफिस में 20 से 50 नए कनेक्शन की फाइल जमा होती है। ऐसे में इन नए कनेक्शन का एसेस्मेंट कर तकनीमा बनाने की जिम्मेदारी होती है। जेईएन नहीं होने से नए कनेक्शन के लम्बित मामले बढ़ रहे है।

{ शहर में फिलहाल आरएयूडीपीआई योजना में कार्य चल रहा है। इसके साथ ही अन्य योजना में भी विद्युत लाइनों का विस्तार करना है। ऐसी स्थिति में जेईएन पर वर्किंग लोड ज्यादा है।

{ नगर परिषद में विद्युत योजना में कार्य तेज गति से बढ़ रहा है। ऐसे में योजना में डिस्कॉम के जेईएन पर जिम्मेदारी ज्यादा है।

{ फीडर लॉसेस प्रोग्राम लागू है। जिसमें प्रतिदिन विजिलेंस और छीजत रोकने का कार्य चल रहा है। जिसके कारण जेईएन इस काम पर फोकस नहीं कर पा रहे है।

{ मार्च सत्र समाप्ति से पहले रिकवरी का लक्ष्य तय कर रखा है। ऐसे में एक जेईएन को रिकवरी पर फोकस करना है।

खबरें और भी हैं...