--Advertisement--

मानव सेवा से बड़ा कोई धर्म नहीं : डालमिया

वर्तमानजहां हर आदमी केवल अपनी स्वार्थ सिद्धि में लगा है वहीं कुछेक चुनिंदा लोगाें ने अपना स्वार्थ त्याग मानव...

Dainik Bhaskar

Nov 22, 2016, 06:15 AM IST
मानव सेवा से बड़ा कोई धर्म नहीं : डालमिया
वर्तमानजहां हर आदमी केवल अपनी स्वार्थ सिद्धि में लगा है वहीं कुछेक चुनिंदा लोगाें ने अपना स्वार्थ त्याग मानव सेवा को सर्वोपरी माना है। यह बात सोमवार को भारतीय सेवा समाज डालमिया सेवा ट्रस्ट के संयुक्त तत्वावधान में स्व. किशनसिंह बालापोता की पुण्य स्मृति में अग्रसेन भवन में आयोजित निशुल्क चिकित्सा शिविर के उद्घाटन पर पूर्व सांसद उद्योगपति संजय डालमिया ने कही। उन्होंने डॉक्टर्स से शिविर में दी जाने वाली चिकित्सकीय सेवाओं की जानकारी भी ली। शिविर प्रभारी सवाईसिंह र|ू एवं पृथ्वीसिंह बालापोता ने मुख्य अतिथि डालमिया विशिष्ट अतिथि डॉ. मूलसिंह शेखावत, पूर्व सांसद जेके जैन, जय मदान, सुमन बुडानिया, अनीता धत्तरवाल, डॉ. जोगेंद्रसिंह, प्रहलादसिंह खुड़ी आदि अतिथियों का स्वागत किया। शिविर में 277 रोगियों की जांच कर दवा भी निशुल्क दी गई। इस अवसर पर विश्वनाथ नौवाल, एडवोकेट जगदीश सैन, सुगनसिंह बालापोता, घनश्यामसिंह, राजेश फोरमैन, नगेंद्र नौवाल, बनवारीलाल सैनी, प्यारेलाल मेघवाल आदि मौजूद थे।

पिलानी . शिविर में चिकित्सक से बात करते ट्रस्ट पदाधिकारी।

चिड़ावा. डीवीएम के छात्र-छात्राओं से रूबरू होने आए पूर्व सांसद संजय डालमिया।

मानव सेवा से बड़ा कोई धर्म नहीं : डालमिया
X
मानव सेवा से बड़ा कोई धर्म नहीं : डालमिया
मानव सेवा से बड़ा कोई धर्म नहीं : डालमिया
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..