पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • कार्तिक पूर्णिमा पर दीयों की रोशनी से पूरा शहर जगमगाया

कार्तिक पूर्णिमा पर दीयों की रोशनी से पूरा शहर जगमगाया

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कार्तिकपूर्णिमा के अवसर पर गुरुवार की शाम होते ही शहर दीयों की रोशनी से जगमगा उठा। खासतौर पर मंदिरों में आकर्षक दीपमालाएं की गई और गली मोहल्लों में स्थति पूजनीय पीपल के पेड़ों पर दीपक जगमगाए। इसके अलावा लोगों ने कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर घरों के बाहर भी दीपक जलाए।

स्वर्णनगरी में कार्तिक पूर्णिमा का त्योहार हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। मंदिरों में दीपमालिकाओं का आयोजन हुआ। साथ ही कई धार्मिक अनुष्ठान भी हुए।

शहर के पुराने बिजलीघर परिसर मे स्थित श्री गजटेड हनुमान मंदिर में गुरुवार को कार्तिक पूर्णिमा का पावन - पर्व श्रद्धा एवं हर्षोल्लास से मनाया गया। भव्य दीप माला सजाई जाएगी एवं अखण्ड रामायण पाठ का आयोजन किया गया। चूंधी गणेश मंदिर में भी भव्य दीपमाला की गई। करीब 11 हजार दीपक जलाए गए।

पुजारी किशन लाल शर्मा ने बताया कि इस अवसर पर जन सहयोग से भव्य दीपमाला सजाई गई। श्री राम दरबार मंदिर तथा श्री हनुमान मंदिर का विशेष बागा एवं पुष्प श्रंगार किया गया। मंदिर को भव्य लाइटिंग से सजाया गया। इस अवसर पर श्री राम दरबार एवं श्री हनुमान जी की महाआरती एवं दीप आरती की गई। इसके अलावा गडसीसर स्थित सेवग बगेची में भी दीपमालिका का आयोजन किया गया। कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर स्व. रावतमल रंगा की स्मृति में गुरुवार को डाबला में भजन संध्या का आयोजन किया गया। राजेन्द्र रंगा ने बताया कि संध्या में भजन गायक राधेश्याम आसोपा एडं पार्टी द्वारा भजनों की प्रस्तुति दी गई।

माताकी हुई विशेष पूजा अर्चना

पोकरण(आंचलिक). कार्तिककी पूर्णिमा के दिन गुरूवार को चामुंडा माता मंदिर में धार्मिक कार्यक्रमों का आयोजन किया गया।

कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर अल सुबह से मंदिर में महिला पुरुषों की भीड़ देखने को मिली। इस अवसर पर मंदिर समिति के सदस्यों द्वारा अल सुबह चामुंडा माता खींवज माता की प्रतिमा पर आकर्षक रूप से सजावट की गई तथा सदस्यों द्वारा प्रतिमा को फूल मालाओं आकर्षक रोशनी से सजाया गया। सैकड़ों लोगों ने माता की पूजा अर्चना की।

कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर समाज के लोागों द्वारा अलसुबह उठकर माता के दरबार में पहुंचे तथा माता की प्रतिमा की पूजा अर्चना की। महिलाओं ने सुबह माता के दरबार में पहुंचकर आरती में भाग लिया। दिन भर मंदिर में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ी रही तथा मेले जैसा माहौल बना। मंदिर समिति