पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • प्राचार्यों की वाकपीठ में शैक्षणिक तंत्र के विकास पर विस्तृत चर्चा

प्राचार्यों की वाकपीठ में शैक्षणिक तंत्र के विकास पर विस्तृत चर्चा

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
शारीरिक शिक्षकों की वाकपीठ 24 से

शहरके राजकीय माध्यमिक विद्यालय बीलिया द्वारा शुक्रवार को आशापुरा धर्मशाला में प्रथम वाकपीठ का आयोजन किया गया। जिसमें पंचायत समिति सांकड़ा की प्रधान अमतुल्लाह मेहर, नगरपालिका अध्यक्ष आनंदीलाल गुचिया, उपाध्यक्ष शिवप्रताप माली, जिला शिक्षा अधिकारी मनाराम मीणा, अतिरिक्त जिला शिक्षा अधिकारी कमलकिशोर व्यास, राउमावि के पूर्व प्रधानाचार्य रेवंतराम बारूपाल, पोकरण के राउमावि प्रधानाचार्य सांवलसिंह सनावड़ा, बिलिया के प्रधानाध्यापक अशोक नागौरा सहित कई अधिकारी उपस्थित थे। इससे पहले सरस्वती मां की तस्वीर पर दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम की शुरूआत की गई।

वाकपीठ में विचार प्रकट करते हुए डाबला के प्रधानाचार्य राजेश व्यास ने प्रारंभिक कक्षाओं में विज्ञान विषय शिक्षण समस्याओं समाधान के लिए अपने विचार प्रकट किए। वहीं छायण के प्रधानाचार्य ओमनाथसिंह ने विद्यालय में रोकड़ बही का संधारण करने के लिए प्रकाश डाला। इसी प्रकार सुरेश पालीवाल ने शाला दर्पण ऑन लाइन डाटा फीड करने प्रक्रिया बताई। प्रधानाचार्य जुगतसिंह ने जिले में शैक्षणिक तंत्र के विकास में पीईईओ भूमिका को समझाते हुए उस प्रकाश विस्तारपूर्वक प्रकाश डाला। इसी प्रकार ओमप्रकाश, बृजपाल खत्री, छत्रसिंह, पितृमराम ने प्रथम सत्र के वाकपीठ में विचार रखे।

पोकरण (आंचलिक) शहर के आशापुरा धर्मशाला में आयोजित वाकपीठ में उपस्थित प्रधानाचार्य अतिथि।

खबरें और भी हैं...