पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • सिद्धचक्र महामंडल विधान में महाअर्घ्य चढ़ाया, रथयात्रा आज

सिद्धचक्र महामंडल विधान में महाअर्घ्य चढ़ाया, रथयात्रा आज

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
विश्व शां‍ति महायज्ञ की पूर्णाहुति आज

चातुर्मास कलश का निकला जुलूस

श्रीमहावीर दिगंबर जैन मंदिर में मुनि श्री चिन्मय सागर जी महाराज, आर्यिका शीतलमति माताजी एवं आर्यिका सम्मेदशिखरमति माताजी ससंघ के सानिध्य में अष्टानिका पर्व में चल रहे सिद्धचक्र महामंडल विधान पूजन का इन्द्र परिवारों ने महाअर्घ्य चढ़ाकर पूजन का समापन किया।

इस दौरान इन्द्र परिवारों ने सिद्धचक्र महामंडल विधान पूजन के आठवें अध्याय में सिद्ध परमेष्ठी के गुणों का गुणगान करते हुए अर्घ्य समर्पण कर जयमाला के साथ पुर्णाघ में द्रव्य थाल समर्पित किए। प्रतिष्ठाचार्य अरविंद जैन मांगीलाल बोहरा ने विधान सम्पन्न कराया तथा संगीतकार अनिल कुमार एंड पार्टी की भक्ति धुन पर श्रावक-श्राविकाओं ने भक्ति नृत्य करते हुए अर्घ्य समर्पण किए। इसी के साथ विधान पूजन के आठों अध्याय के पूजन का समापन हुआ।

आचार्य अभिनंदन सागर का मंगल प्रवेश

धरियावद|वात्सल्य र|ाकर 108 आचार्य श्री अभिनंदनसागरजी महाराज ससंघ का अभिनंदन साधक साधना केन्द्र शेषपुर मोड़, सलूम्बर में गुरुवार को भव्य मंगल प्रवेश हुआ। इस दौरान आचार्य, बालाचार्य, उपाध्याय और गणिनी आर्यिका ससंघ की अगवानी के लिए अतिशय क्षेत्र से करीब एक किमी की दूरी से स्वागत द्वार लगाए गए। इस अतिशय क्षेत्र पर उदयपुर, डूंगरपुर, बांसवाड़ा, प्रतापगढ़ सहित अन्य जिलों से आए श्रावक-श्राविकाओं ने जयकारे लगाए।

अष्टानिका पर्व के दौरान चल रहे सिद्धचक्र महामंडल विधान पूजन के समापन पर शुक्रवार सुबह श्रीजी का पंचामृत अभिषेक, नित्य नियम पूजन, विश्व शां‍ति महायज्ञ, हवन पूर्णाहुति एवं विसर्जन, सम्मान समारोह आदि धार्मिक कार्यक्रम महावीर जैन मन्दिर में आयोजित होंगे। इस दौरान सिद्धचक्र महामण्डल विधान के समापन पर श्रीजी की विशाल रथयात्रा निकाली जाएगी, जो नगर के प्रमुख मार्गों से होते हुए पुन: मन्दिर पहुंचेगी। इसके पश्चात सामूहिक स्वामी वात्सल्य रमेश कुमार प्रकाश चन्द्र भंवरा परिवार के द्वारा महावीर वाटिका में आयोजित होगा।

मुनि संघ के चातुर्मास कलश के उत्थापन के पश्चात दोपहर पश्चात महावीर मंदिर से मुनि ससंघ के सानिध्य में वर्षायोग के सम्यक दर्शन कलश के लाभार्थी परिवार कन्हैयालाल संजयकुमार अणदावत और स्थापनकर्ता माणक लाल चेतन कुमार गनोड़िया के निवास से कलश यात्रा निकाली गई। कलश मुनि आर्यिका संघ सानिध्य मे