पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • राजयोग करने से मिटते हैं मन के विकार: मीना बहन

राजयोग करने से मिटते हैं मन के विकार: मीना बहन

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतापगढ़ | आजहर मनुष्य दुख और अशांति में जी रहा है। मन के विकारों के कारण वह हर समय दुखी रहता है। इन विकारों से मुक्ति पाने के लिए राजयोग की जरूरत है। यह बात राजयोगिनी मीना बहन ने कहीं। वह शहर के ब्रह्मकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय के बगवास सेवा केंद्र पर गुरुवार को आयोजित कार्तिक पूर्णिमा महोत्सव पर प्रवचन दे रही थी। उन्होंने कहा कि मनुष्य के अंदर काम, क्रोध, लोभ, मोह और अहंकार रूपी विकार से वह ईश्वरीय भक्ति से दूर होता जाता है। राजयोग करने से मनुष्य इन विकारों से मुक्ति पा सकता है। मन निर्मल होते ही जीवन में सुख आना शुरू हो जाते हैं। कार्तिक पूर्णिमा के दिन गंगा स्नान, दीप दान, हवन, यज्ञ आदि करने से सांसारिक पाप और ताप का शमन होता है। इस दिन किये जाने वाले अन्न, धन एवं वस्त्र दान का भी बहुत महत्व बताया गया है। इस दिन जो भी दान किया जाता हैं, उसका कई गुणा लाभ मिलता है। कार्यक्रम के बाद भंडारे का आयोजन किया गया।