पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • दीपेश्वर सहित कई जलाशय दीपकों से जगमगाए

दीपेश्वर सहित कई जलाशय दीपकों से जगमगाए

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
गीत गाते हुए पहुंची नदी पर

गौतमेश्वर कुंड में स्नान कर किया दीपदान

कार्तिकपूर्णिमा पर गुरुवार शाम को शहर के दीपेश्वर तालाब सहित जिले भर के जलाशय दीपक की रोशनी से जगमगा उठे। कार्तिक मास के व्रत करने वाली महिलाओं, युवतियों ने तालाब में टांटियां प्रवाहित कर दीपदान किया। यहां केशवराय मंदिर, रोकड़िया हनुमान मंदिर, ओंकारेश्वर मंदिर, राजराजेश्वरी अंबामाता मंदिर में कार्तिक व्रत रखने वाली महिलाओं, युवतियों की भीड़ रही। शाम को महिलाएं युवतियां शहर के दीपेश्वर तालाब पहुंची, जहां सभी ने लकड़ी से बनी छोटी-छोटी टांटियों पर आटे से बने दीपक रखे। टांटियों पर रखे दीपकों को जलाकर तालाब में विसर्जित किया गया। तालाब किनारे महिलाओं युवतियों की काफी भीड़ रही। रात्रि के समय तालाब में बहते टांटियों पर रखे दीपक आकर्षक लग रहे थे। कार्तिक मास के दौरान महिलाएं रोज तड़के तालाब या नदी पर जाकर स्नान करती हैं। पूर्णिमा पर एक मासी व्रत अनुष्ठान का समापन गुरुवार को हुआ।

दीपेश्वरमहादेव में हुआ दीपदान अन्नकूट: शहरके दीपेश्वर महादेव मंदिर में गुरुवार को कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर अन्नकूट का कार्यक्रम हुआ। महादेव को छप्पन भोग धराए गए। शाम के समय दीपेश्वर महादेव मंदिर में दीपोत्सव मनाया गया। जिससे मंदिर परिसर स्थित दीप स्तंभ पर दीपक जलाए गए।

धरियावद. कर्ममोचिनी नदी में टांटियां प्रवाहित करती महिलाएं।

छोटीसादड़ी| उपखंड मुख्यालय आस-पास के ग्रामीण क्षेत्रों में कार्तिक स्नान के तहत पूरे माह व्रत करने वाली बालिकाओं, महिलाओं युवतियों ने गुरुवार को विभिन्न जलाशयों में स्नान कर पानी में दीपदान, टांटिया तैराकर व्रत का समापन किया। प्रमुख शक्तिपीठ भंवरमाता के पवित्र कुंड, एनीकट, नगर के प्रमुख सरोवर, बागदरी बांध, बसेड़ा तालाब आदि जलाशयों में कार्तिक स्नान करने वाली व्रतार्थियों लोगों का सुबह से देर शाम तक जमघट लगा रहा। इस अवसर पर सभी व्रतार्थियों ने सजी धजी टांटिया तैयार कर उन पर 32 दीपक रखकर पूजा अर्चना की।

दीपदान करने के साथ टांटिया आस्था के साथ पानी में तैराई।

लोगों ने किए दान पुण्य

जिलेभरमें गुरुवार को देव दीपावली कार्तिक पूर्णिमा पर्व मनाया। इस अवसर मंदिरों में कई धार्मिक अनुष्ठान के कार्यक्रम हुए। कार्तिक मास की पूर्णिमा की तिथि को देव दिवाली भी कहा जाता है। श्रद्धालुओं ने शहर की गौशाला में