• Hindi News
  • National
  • मेवाड़ जमकर भीगा, जैसलमेर तक पहुंचा मानसून

मेवाड़ जमकर भीगा, जैसलमेर तक पहुंचा मानसून

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर न्यूज | प्रदेश के विभिन्न अंचलों से

प्रदेशमें मानसून फिर सक्रिय हो गया है। माउंट आबू में एक ही दिन में 12 इंच पानी गिरा तो बांसवाड़ा के घाटोल में 10 इंच। इस दौरान हादसे भी हुए। आबू में दीवार गिरने से दो लोगों की मौत हो गई। पांच घायल हुए। बांसवाड़ा में कुशलगढ़ के उपखंड अधिकारी रामेश्वरदयाल मीणा और उनका ड्राइवर शुक्रवार सुबह 8 बजे कलिंजरा से करीब 10 किमी. दूर बाकड़ी नदी के तेज बहाव में सरकारी जीप सहित बह गए। चालक तो ढाई किमी के बाद बच निकला, लेकिन एसडीएम मीणा का देर रात तक कोई पता नहीं चल पाया। जीप घटनास्थल से आधा किमी दूर झाड़ियों में फंसी मिली। प्रशिक्षित गोताखोर, पुलिस, प्रशासन और ग्रामीण सहित करीब 2 हजार लोग देर रात तक एसडीएम की तलाश में जुटे हुए थे।

कहां कितनी बारिश

माउंटआबू 318

घाटोल,बांसवाड़ा 240

पीपलखूंट,प्रतापगढ़ 239

धरियावद(प्रतापगढ़) 74

छोटीसादड़ी 70

जयसमंद62

(बारिशमिमी में)

निठाउवा (डूंगरपुर)- 60

सोमपिकअप- 54

उदयपुर-24

जोधपुर-13

चित्तौडगढ- 10

अजमेर-0.7

पूरे मेवाड़ में पिछले 24 घंटों से लगातार मूसलाधार बारिश का सिलसिला जारी है। अजमेर, जोधपुर, चित्तौडगढ़ में जहां हल्की बारिश का सिलसिला शुरू हो गया, वहीं राजधानी में दिनभर बादल छाए रहे और शाम के समय शहर के विभिन्न इलाकों में बरसे। सक्रिय हुए मानसून ने शुक्रवार को बढ़त बनाई और जैसलमेर, फलौदी नागाैर जिलों को कवर कर लिया। यह पहला मौका है, जब बीकानेर, चूरू, हनुमानगढ़ गंगानगर को छोड़ मानसून ने ऐसी जगह जैसलमेर में दस्तक दी है, जहां सबसे आखिर में पहुंचता है। उदयपुर, डूंगरपुर, प्रतापगढ़, बांसवाड़ा राजसमंद जिलोंं में कई 9-10 इंच तक बारिश होने से हालात बेकाबू हो गए। सिरोही का बालोरिया बांसवाड़ा का हारो बांध लबालब हो गया। आबू के लोअर कोदरा डैम में एक ही दिन में 40 फीट पानी आया।

ऐसे हुआ हादसा : नदी में डेढ़ फीट बहाव था, अचानक पांच फीट हो गया

एसडीएममीणा मूलत: अलवर जिले में राजगढ़ के इदपुरा गांव के रहने वाले हैं। वे गुरुवार को ही बांसवाड़ा आए थे। शुक्रवार सुबह करीब 7 बजे वे कुशलगढ़ के लिए रवाना हुए। कलिंजरा से 4 किमी पहले कुशलगढ़ वाया टिमेड़ा मार्ग से जाने के लिए मुड़ गए। मोड़ से करीब 5 किमी आगे हिरण नदी की सहायक नदी बाकड़ी की रपट को पार करने के दौरान उनकी जीप तेज बहाव में बह गई। तब रपट पर करीब डेढ़ फीट तक पानी चल रहा था। वाहन चालक ने यह सोच कर गाड़ी उतार दी कि आसानी से निकाल दी जाएगी। लेकिन जैसे ही नदी के बीचोंबीच पहुंचे तो पानी का बहाव 5 फीट से ज्यादा हो गया। एसडीएम और चालक दोनों बह गए। बाद में चालक जैसे तैसे तैर कर बच गया। वे इसी साल 9 फरवरी को कुशलगढ़ में एसडीएम लगाए गए थे।

बारिश से अाबू में दीवार ढही, दो मरे बांसवाड़ा में एसडीएम जीप सहित बहे

माउंट आबू में 12 इंच, बांसवाड़ा के घाटोल में 10 इंच पानी गिरा

चालक भी बहा, लेकिन ढाई किमी बाद जिंदा निकला, एसडीएम का रात तक सुराग नहीं

एसडीएम मीणा

जीप आधा किमी दूर झाड़ियों में फंसी मिली।

खबरें और भी हैं...