पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • हादसे के दिन ब्रह्मा मंदिर महंत सोमपुरी की अनुपस्थिति में किसने खोला था गद्दी कक्ष?

हादसे के दिन ब्रह्मा मंदिर महंत सोमपुरी की अनुपस्थिति में किसने खोला था गद्दी कक्ष?

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
गद्‌दी कक्ष में रखी भारी तिजोरी खाली मिली

ब्रह्मामंदिर के महंत सोमपुरी का जिस दिन यानी 11 जनवरी को सड़क हादसे में निधन हुआ था, उस दिन उनकी गैरमौजूदगी में महंत का गद्दी कक्ष खुला था। इसका खुलासा रविवार को खजाने की तलाश में खोले गए गद्दी कक्ष में मिले समाचार पत्र से हुआ है। गत 11 जनवरी का यह अखबार महंत की गद्‌दी के पास पड़ा था। गद्दी कक्ष में हादसे के तिथि का समाचार पत्र मिलने से कई सवाल खड़े होते हैं। पहला सवाल यही है कि आखिर सोमपुरी की अनुपस्थिति में उनके गद्दी कक्ष को किसने और क्यों खोला? इसकी वास्तविक जांच होने पर रहस्य से पर्दा उठ सकता है। शेष| पेज 6



ब्रह्मामंदिर में महंत का गद्दी कक्ष अपने मायने में काफी महत्वपूर्ण कक्ष है। इस कक्ष के ताले की चाबी अमूमन महंत सोमपुरी के पास ही रहती थी और वे ही इसे सुबह खोलते और शाम को बंद करते थे। सोमपुरी के हादसे की जानकारी मिलते ही पुलिस तत्काल मंदिर पहुंची। इस दौरान पुलिस को गद्दी कक्ष के मुख्य गेट के दोनों दरवाजे बंद मिले और दोनों ही दरवाजों पर अलग-अलग ताले लगे हुए थे। शेष| पेज 6





पुलिसने भी महंताई विवाद की संभावना को देखते हुए ऐहतियात के तौर पर गद्दी कक्ष समेत महंत के तिजोरी शयन कक्ष पर भी अपने अलग से ताले लगा दिए। दूसरे दिन तो पुलिस ने एसडीएम मनमोहन व्यास के निर्देशानुसार तीनों कमरों को सील भी कर दिया था। तभी से लेकर गद्दी कक्ष पुलिस के पहरे में है।

पालिका चेयरमैन ने किया जांच का आग्रह

सोमपुरी के हादसे के दिन का समाचार पत्र उनकी गद्दी के पास रखा देख पालिकाध्यक्ष कमल पाठक सकते में पड़ गए। उन्होंने तत्काल इसकी जानकारी प्रबंध कमेटी के सदस्य सचिव मनमोहन व्यास को देते हुए जांच का आग्रह किया।

^हां,सूचना मिली है। इसकी पूरी जांच होगी। एसएचओ से पूछताछ कर मामले की जानकारी ली जाएगी। -मनमोहनव्यास, एसडीएम, पुष्कर



पुष्कर | ब्रह्मामंदिर में दबे खजाने की तलाश कर रही मंदिर प्रबंध कमेटी ने सोमवार को महंत के गद्दी कक्ष में रखी भारी भरकम तिजोरी के ताले खोले। तिजोरी खाली मिली। कमेटी को तिजोरी में नकदी एवं आभूषण मिलने की संभावना थी, मगर उसमें एक रुपया भी नहीं मिला। सोमवार को मंदिर प्रबंध कमेटी के सदस्य सचिव उपखंड अधिकारी मनमोहन व्यास ने सोमवार को दोबारा गद्दी कक्ष के दरवाजे खोले तथा कक्ष के एक कमरे में रखी तिजोरी को खोला। तिजोरी में कुछ नहीं मिला।

शेष| पेज 6







इसकेबाद गद्दी कक्ष में ही एक और कमरे का ताला खोल कर तलाशी ली गई। उसमें सिर्फ पुराने बर्तन कुछ पुस्तकें मिली। शेष| पेज 6







उल्लेखनीयहै कि रविवार को कमेटी ने बड़े खजाना मिलने की उम्मीद में महंत के गद्दी कक्ष का चप्पा-चप्पा छाना था, मगर खजाना नहीं मिला। गद्दी कक्ष में रखी तिजोरी एक कमरे के ताले नहीं खुलने के कारण उनकी तलाशी नहीं ली जा सकी थी।

वहीं मंदिर के खजाने की तलाश के लिए बीते 7 दिनों से कमेटी का चल रहा सर्च अभियान अब लगभग खत्म हो गया है। अभियान के दौरान मंदिर के दान पात्रों महंत के तिजोरी कक्ष से कमेटी को 30 लाख रुपए की नकदी, 15 किलो चांदी के आभूषण बर्तन आदि कीमती सामान मिले हैं। 18 कारतूस कई महत्वपूर्ण दस्तावेज भी मिले। कमेटी ने दस्तावेजों का अध्ययन शुरू कर दिया है।



दो राजस्व कर्मियों की मंदिर में लगाई ड्यूटी

ब्रह्मा मंदिर के प्रबंधन अन्य व्यवस्थाओं के संपादन के लिए जिला कलेक्टर गौरव गोयल ने एक आदेश जारी करते हुए नसीराबाद तहसील के अंतर्गत ग्राम भवानीखेड़ा के गिरदावर महावीर प्रसाद शर्मा एवं पुष्कर तहसील के अंतर्गत ग्राम किशनपुरा गोवलिया के पटवारी प्रवीण वैष्णव की ड्यूटी लगाई है। कलेक्टर के निर्देशानुसार दोनों राजस्व कर्मियों ने प्रबंध कमेटी के सचिव व्यास के समक्ष अपनी उपस्थिति दर्ज करा दी है। उन्होंने व्यास के निर्देशन में मंदिर की व्यवस्था को सुचारू करने का काम शुरू कर दिया है। दोनों कर्मचारियों को मंदिर में अलग से कमरा (ऑफिस) उपलब्ध कराया गया है।

गद्दी कक्ष में मिला 11 जनवरी का अखबार, जबकि सोमपुरी 10 जनवरी को ही ताला लगाकर मंदिर से बाहर चले गए थे

खबरें और भी हैं...