पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • रोडवेज से नीलामी में खरीदी थीं खटारा बसें बच्चों की जान से खेल रहा था स्कूल प्रबंधन

रोडवेज से नीलामी में खरीदी थीं खटारा बसें बच्चों की जान से खेल रहा था स्कूल प्रबंधन

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
अब जागा प्रशासन : खटारा बस का निरीक्षण करते कलेक्टर

जिले में

कितने स्कूल

हादसे की वजह

सोफिया स्कूल के पांच वाहन जब्त

अब होगी जिले भर की बाल वाहिनी की जांच

नरेंद्र पूर्बिया/हेमंत दाधीच| राजसमंद

कांकरोली-भीलवाड़ामार्ग पर गुरुवार को सोफिया पब्लिक स्कूल के बाहर जो बस नहर में गिरी वह 1981 मॉडल की रोडवेज बस थी। इसका परमिट जारी नहीं किया जा सकता। बस का फिटनेस भी नहीं था। अधिकारियों के अनुसार, सोफिया पब्लिक स्कूल में संचालित 10 बसें एक ऑटो में से आधी बसें विद्यालय प्रशासन ने प्रदेश के विभिन्न जिलों से नीलामी की रोडवेज की बसें लगा रखी थी। इन्हीं बसों में बच्चों को ले जाया जाता रहा। लेकिन तो जिला परिवहन कार्यालय ने और ही पुलिस प्रशासन ने अब तक की कार्रवाई की थी। हालांकि, दुर्घटना के बाद प्रशासन ने स्कूल की ऐसी पांच खटारा बसों को जब्त कर लिया है। प्रशासन ने शुक्रवार से जिले भर के स्कूलों में लगी बसों की फिटनेस, परमिट सहित पूरी जांच करने की बात कही है। बस दुर्घटना में घायल बच्चों के अभिभावकों का कहना है कि दुर्घटना से पहले जानलेवा स्थिति में पहुंची बसों पर कार्रवाई क्यों नहीं हुई। उन्होंने इसके लिए जिम्मेदार अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की और प्रदर्शन किया।

स्कूल प्रबंधन का क्या है कहना

^हादसा दुर्भाग्यपूर्ण है। पुनरावृत्ति हो इसके लिए सतर्क रहेंगे। खराब बसों की तो डेढ़ साल में पुरानी पांच गाड़ियों को बदला भी गया था। एक साथ 7-8 गाड़ियां खरीदना संभव नहीं है। एक एक कर नई गाड़ी लगाने की योजना चल रही है। दीपावली सहित अन्य अवकाश ज्यादा होने से अभिभावकों ने अवकाश कम करने की बात की थी। इसलिए गुरुवार को अवकाश निरस्त कर दिया था। जावेद,उपप्रधानार्य,सोफिया पब्लिक स्कूल, कांकरोली

^ऐसे वाहनों पर जुलाई महीने में कार्रवाई की थी। स्टाफ की भी कमी के चलते परेशानी आती है। इस कारण हाल में कार्रवाई नहीं हो पाई है। कलेक्टर साहब के निर्देशानुसार कार्रवाई करेंगे। जिले भर के स्कूल में लगे वाहनों पर यह कार्रवाई पूरे महीने तक चलेगी। वीरेंद्रसिंह राठौड़, जिलापरिवहन अधिकारी

कलेक्टर ने यह दिए निर्देश

कलेक्टर कैलाश चंद वर्मा ने डीटीओ वीरेंद्र सिंह राठौड़ को स्कूल बस चालकों को लिए निर्देश दिए। स्कूल बस चालक के लाईसेंस, पांच साल का अनुभव होना चाहिए। जिले के सभी स्कूल बस चालकों क