पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • मेवाड़ के हरिद्वार में हुआ महास्नान

मेवाड़ के हरिद्वार में हुआ महास्नान

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर न्यूज | चित्तौड़गढ़ / राशमी

मेवाड़के हरिद्वार माने जाने वाले मातृकुंडिया तीर्थ तथा दुर्ग स्थित गोमुख कुंड पर गुरुवार को कार्तिक पूर्णिमा पर श्रद्धालुओें की रेलमपेल रही। अल सुबह से गीत गाती पंहुची महिलाओं बालिकाओं से बनास नदी का कुंड गुंजायमान रहा। अलग-अलग घाटों पर देर तक कार्तिक महा स्नान के साथ दीपदान करने का सिलसिला चलता रहा।

पूरे कार्तिक मास स्नान व्रत करने वाली महिलाओं बालिकाओं का तड़के चार बजे से आगमन शुरू हो गया। नौ बजे दीपदान का कार्यक्रम यौवन पर पहुंच गया। उल्लेखनीय है कि कार्तिक उपवास, व्रत वालों के लिए यह पूर्णिमा विशेष महत्व रखती है। इस दिन व्रतधारी श्रद्धालु किसी विशेष धार्मिक स्थल स्थित जलाशय पर स्नान करते हैं। बालिकाएं महिलाएं दीपक बोयो की टाटियों पर दीपक जमाकर पूजा अर्चना कर पानी में प्रवाहित करती है। मातृकुंडिया में जिले सहित भीलवाड़ा, राजसमंद जिले से भी बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचे। स्नान दीपदान के बाद मुख्य मंदिर में मंगलेश्वर महादेव के दर्शन किए। इधर, कार्तिक पूर्णिमा को देखते हुए कमेटी ने मेले जैसा बंदोबस्त भी किया। मेलार्थियों ने जमकर खरीदारी की। घाट मंदिर परिसर में पुलिस बल तैनात रहा।

10रुपए की एक टाटी: कार्तिकपूर्णिमा पर मातृकुंडिया नदी में दीपदान करने के लिए अाने वाली अधिकांश महिलाएं बालिकाएं दीपदान के टाटियां यहीं से खरीदती है। तीर्थ स्थल पर रेडिमेड बोये की टाटियां 10-10 रुपए में खरीदकर दीपदान किया।

चित्तौड़गढ़ | गुरुवारशाम गंभीरी नदी में दीपदान करती हुई युवती।

राशमी | मातृकुंडियामें स्थित बनास नदी के कुंड पर गुरुवार सुबह कार्तिक पूर्णिमा पर स्नान पूजा के लिए आए श्रद्धालु।