पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • ‘जींस टॉप वाली माताएं आंचल कहां से लाएंगी’...

‘जींस टॉप वाली माताएं आंचल कहां से लाएंगी’...

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
श्रीमोक्षभूमि गो सेवा समिति, सोशियल हेल्प सोसायटी, श्री कृष्ण आस्था मंडल एवं गो सेवा प्रभात फैरी कीर्तन मंडल की आेर से बुधवार रात को मोक्ष भूमि गोशाला में हास्य कवि सम्मेलन हुआ।

कार्यक्रम अध्यक्ष एवं इनकमटेक्स के ज्वाइंट कमिश्नर सीकर अरविन कुमार गहलोत, हरियाणा ब्लड बैंक हिसार के डायरेक्टर रोशनलाल सैनी, मुकेश चिड़ावा, जयचंद इंस्पेक्टर, हनुमानप्रसाद मोदी, नंदकिशोर लुहारीवाला, कवि हरीश ‘हिंदुस्तानी’, पवन पारस राधेश्याम डोकवेवाला ने मां सरस्वती मां भारती के चित्र के समक्ष दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया।

भोपाल की कवियत्री लता स्वरांजलि द्वारा प्रस्तुत सरस्वती वंदना के बाद कार्यक्रम में कवियों ने एक से बढ़कर एक हास्य, राष्ट्रभक्ति, भारतीय संस्कृति, भ्रष्टाचार आदि को लेकर रचनाएं प्रस्तुत की। देर रात 3 बजे तक चले कार्यक्रम में कवियों ने श्रोताओं को हंसी से लोट पोट किया। कवि हरीश ‘हिंदुस्तानी’ नवलगढ़ ने ‘वतन से बढ़कर कोई मजहब नहीं होता’, जयसिंह पूनिया चूरू ने ‘हर एक खूबसूरत चीज का एक बदनुमा चेहरा है’ तथा पवन पारस ने पाश्चात्य संस्कृति एवं पहनावे पर व्यंगात्मक प्रहार करते हुए ‘जींस टॉप वाली माताएं आंचल कहां से लाएगी’ की प्रस्तुतियां देकर खूब तालियां बटोरी। भागीरथ ‘भाग्य’ बगड़, मुकेश मौलवा मध्यप्रदेश, हरिओम पारीक दातारामगढ़, वेदप्रकाश शर्मा जयपुर तथा लता स्वरांजलि ने भी देशभक्ति, राजस्थानी हास्य गीत सहित अन्य काव्य रचनाओं के जरिए श्रोताओं का खूब मनोरंजन किया।

संचालन अनिल शास्त्री हरीश ‘िहंदुस्तानी’ ने संयुक्त रूप से किया। सोसायटी के पदाधिकारियों ने आगंतुक अतिथियों, कविगण, दर्शकों तथा रक्तदान शिविर के लिए भवन एवं सहयोग करने उपरांत रूलीराम लुहारीवाला चैरिटेबल ट्रस्ट तथा आशा देवी नर्सिंग कॉलेज का आभार व्यक्त किया।

फौजीकी फैमिली ने लगाए ठुमके

कार्यक्रमके दौरान राजस्थानी भाषा पर बनी फिल्म ‘फौजी की फैमिली’ के कलाकारों ने ठुमके लगाकर लोगों का मनोरंजन किया। कलाकार सुमन शर्मा कुमार गौरव ने फिल्म का रोल तथा गीत पर नृत्य कर खूब तालियां बटौरी।

सादुलपुर. कविसम्मेलन में रचना प्रस्तुत करते कवि मुकेश मौलवा।

सादुलपुर. मोक्षभूमि गोशाला में हुए कवि सम्मेलन में प्रस्तुतियों पर ठहाके लगाते लोग।