पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • सेवा का पुरा का युवक डेढ लाख के लालच में गंवा बैठा 20 हजार रुपए

सेवा का पुरा का युवक डेढ लाख के लालच में गंवा बैठा 20 हजार रुपए

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कस्वेके पंजाब नैशनल बैंक के एटीएम से 20 हजार की नगदी निकाल कर गिनते हुए घर जा रहे दो युवकों से चैराहे पर अज्ञात ठगों ने कागज की गडिडयों से भरे रूमाल में डेढ लाख की नगदी बताकर ठगी कर फरार हो गए। ठगी करने बाले दोनों युवक पीडित और उसके साथी से विश्वास के तौर पर दोनों के मोबाईल भी ले गए और थोडी देर में बंैंक पर मिलने की कहकर घंटों तक नही लौटे। पीडित विजय सिंह कुषवाह मेघसिंह निबासी सेवा का पुरा ने बताया कि डेढ लाख के लालच में वह और उसका साथी जगदीष पुत्र ग्यासीराम कुषवाह कागज की गडिडयों से भरे रूमाल को लेकर एकांत में पहुंचे और उसे खोलकर देखा तो भौचक्के रह गए। पीडित बिजय सिंह ने बताया कि कागज की गडिडयों को देखते ही उसके होष उड गए। उसने घटना के बारे में अपने मिलने बालों को बताया और बैंक पहुंचकर प्रबंधक से एटीएम कार्ड बंद कराने की सूचना दी।

जानकारी के अनुसार गांव सेवा का पुरा निबासी बिजय सिंह मां सुनीता देवी और साथी जगदीष के साथ पंजाब नैषनल बैंक में मां के खाते से प्रधानमंत्री आवास योजना की किष्त की राषि से एटीएम से 20 हजार की नगदी निकाल कर ले जा रहा था। रास्ते में चलते चलते बिजय सिंह दो दो हजार के नोटों को गिनने लगा। तभी अचानक उसके पास दो जने रूमाल में लिपडी कागज की गडिडयां दिखाते हुए बोले कि उन्हंे किसी को अर्जेंट में बडे नोट देने है उनके पास ये डेढ लाख की नगदी है उसे रख लें। थोडी देर में ही वो उनका हिसाब कर बकाया रकम ले लेंगे। हाथ में आए डेढ लाख की गठरी देखकर बिजय सिंह और उसके साथी को लालच गया और उन्होंने हाथ में लगे 20 हजार के नोट ठगों को थमा दिए और उनके लौटने का इंतजार करने लगे। आधा घंटे तक दोनों युवकों के नही लौटने पर बिजय सिंह और उसका साथी कागज की गडिडयों से भरे रूमाल को लेकर एकांत में जा पहुंचे और खोलने लगे।

जैसे ही रूमाल खोलकर देखा तो उसमें कागज की गडिडयां देखकर उनके होष उड गए। दोनों एक दूसरे का मुंह ताकने लगे। पीडितों ने बताया कि उन्होने दोनांे युवकों की इधर उधर तलाष भी की लेकिन दोनों ठगों का कोई सुराग नही लगा। लौटकर पीडित बैंक पर गए और बैंक प्रबंधक को घटना की जानकारी दी। पीडित बिजय सिंह ने बताया कि दोनांे युवक उससे एटीएम कार्ड और उसके साथी जगदीष से 750 रूपऐ भी ठगी कर ले गए है। घटना के बाद पीडित बिजय सिंह मां सुनीता और साथी जगदीष के साथ पुलिस थाने रिपोर्ट करने के लिए पहुंचा है।

बसई नबाव में भी हो चुकी है ऐंसी घटना

करीबदो माह पूर्व बसई नबाव स्थित पंजाब नैषनल बैंक में भी इसी तरह की घटना ईंटकी निबासी एक वृध्द के साथ ठगों के द्वारा अंजाम दी जा चुकी है। यहां भी ठगों ने इसी तरह ईंटकी निबासी वृध्द को फंसाया था और उसे एक कपडे मंे कागज के टुकडे थमाकर फरार हो गए। इस घटना में भी उसी गैंग का हाथ होने के आसार दिखाई दे रहे है।

गरीबका और क्या गरीब होगा

बेटेसे 20 हजार की ठगी के बाद सेवा का पुरा निबासी सुनीता बेहद दुखी और परेषान दिखी। उसने भास्कर को बताया कि गरीब थी तभी सरकार ने उसके लिए प्रधानमंत्री आवास स्वीक्रत किया था। आवास बनने का काम चल रहा था इस वजह से वह मैटेरियल और कारीगरों की मजदूरी के लिए पैसे निकालने आई थी। लेकिन उसे क्या पता था कि उसके साथ यहां भी ठगी हो जाएगी। उसने रूंधे हुए गले से कहा कि गरीब का इससे भी ज्यादा क्या गरीब होगा।

खबरें और भी हैं...