• Hindi News
  • National
  • जिला अस्पताल ने रैफर किया, निजी ने फीस लेकर भी नहीं किया इलाज

जिला अस्पताल ने रैफर किया, निजी ने फीस लेकर भी नहीं किया इलाज

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
मनोहरखेड़ीके राउप्रावि की कक्षा तीन की 9 वर्षीय छात्रा अनुराधा भील पुत्री उदयलाल हृदय रोग से पीड़ित है। वह और उसके परिजन इलाज के लिए अस्पतालों के चक्कर काट रहे हैं। सांवलियाजी जिला अस्पताल के डाॅक्टरों ने उसे उदयपुर रैफर कर दिया और उदयपुर के डाॅक्टरों ने इलाज किए बिना ही उसे घर भेज दिया।

राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य मिशन कार्यक्रम के तहत मोबाइल हैल्थ टीम ने विद्यालय में 28 नवंबर को स्वास्थ्य परीक्षण कर अनुराधा को हृदयरोग से पीड़ित होना बताया। टीम के डाॅ. अमित कुमार ने उसे चित्तौड़ के सांवलियाजी जिला अस्पताल के लिए रैफर कार्ड बना दिया। 6 दिसंबर को पिता उदयलाल अनुराधा को लेकर चित्तौडगढ पहुंचा, जहां डाॅक्टरों ने चैकअप के बाद उदयपुर के गीतांजली अस्पताल रैफर कर दिया। 20 दिसंबर को उदयलाल बालिका को ले गए, जहां डाक्टरों ने फीस के नाम पर 400 रुपए लिए और बिना इलाज किए घर भेज दिया। बालिका को लेकर पिता उदयलाल अस्पतालों के चक्कर काट रहा है पर उपचार नहीं मिल रहा।

हृदय रोग से पीड़ित अनुराधा के साथ पिता उदयलाल

खबरें और भी हैं...