पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • 20 डिग्री से. तापमान गेहूं की बोआई के लिए सबसे उपयुक्त

20 डिग्री से. तापमान गेहूं की बोआई के लिए सबसे उपयुक्त

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
नगर संवाददाता | सवाई माधोपुर

बांधोंसे नहरों में पानी छोड़ने के साथ ही किसानों ने गेहूं की बोआई की पूरी तैयारी कर ली है। कृषि विभाग के अनुसार गेहूं की बोआई के लिए सबसे उपयुक्त 20 से 21 डिग्री सेल्सियस तापमान माना जाता है।

इस तापमान में गेहूं की बोआई करने से उन्नत और अधिक पैदावार होती है, लेकिन इस बार मौसम इस तापमान के अनुकूल अभी तक नहीं हुआ है। बुधवार को मौसम विभाग की ओर से अधिकतम 33 डिग्री सेल्सियस तापमान रिकॉर्ड किया गया। नहरों के पानी के उपयोग को देखते हुए किसानों को इस तापमान में ही गेहूं की बुआई करने के लिए मजबूर होना पड़ेगा।

उपजमें होगी बढोत्तरी

कृ़षिविभाग के अधिकारी अमरसिंह ने बताया कि गेहूं की बोआई के लिए 20 से 21 डिग्री सेल्सियस तापमान का सबसे उपयुक्त समय होता है, लेकिन फिलहाल मौसम ऐसा नहीं है।

पंखे अभी भी कम वेग से चलाए जा रहे हैं तथा सर्दी ने पूरा जोर नहीं पकड़ा है। 20 डिग्री सेल्सियस तक के तापमान में यदि गेहूं की बोआई की जाती है तो इससे उन्नत और अधिक पैदावारी होती है। गुणवत्तापूर्ण उपज होती है तथा अधिक सर्दी पड़ने से फसल में पकाव भी आता है। पिछले साल तक तो अक्टूबर नवंबर में यह तापमान रिकॉर्ड कर लिया जाता था, लेकिन इस बार अभी भी 30 डिग्री सेल्सियस से अधिक तापमान दर्ज किया जा रहा है।

ऐसे में बांधों से छोड़े गए नहरों के पानी का उपयोग किसानों के लिए जरूरी है तथा इससे जमीन को नमी करते हुए गेहूं की बोआई करना आवश्यक है। दूसरी ओर मुई और सूरवाल बांध से नहरों में पानी छोड़ दिया गया है। किसानों ने नहरों से सिंचाई के पानी का उपयोग करने के लिए गेहूं की बोआई शुरू कर दी वहीं नहर के पानी से सरसों की पिलाई भी अच्छी की जा सकेगी।

नहरोंसे मिलेगा पानी

भैंसखेड़ागांव के पूर्व प्रधान लल्लू लाल मीणा ने बताया कि सूरवाल बांध से लिंक नहरों से पढ़ाना, गोगोर, भैंसखेड़ा, सेलू, जड़ावता, कुशाली, अजनोटी, छोटी दुब्बी, खाटकलां, खाटखुर्द, श्यामोता, नींदड़दा, मैनपुरा, अजनोटी सहित दर्जनों गांवों को सिंचाई का पानी मिल सकेगा।