पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • संगठन को सर्वोच्च मानने वाले ही महापुरुष

संगठन को सर्वोच्च मानने वाले ही महापुरुष

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सवाई माधोपुर | साधनासे सफलता मिलने में देरी अवश्य हो सकती है परंतु संगठन से दूसरे ही पल में सफलता चरण चूमती है। महापुरुष वहीं बने है, जिन्होंने अपने से बड़ा संगठन को माना तथा उसके लिए सर्वस्व न्योछावर कर दिया। यह बात जैन संत कमल मुनि कमलेश ने धर्मसभा को संबोधित करते हुए कही। संगठन का उद्देश्य निर्माण तथा रचनात्मक सकारात्मक हो। संगठन भले ही किसी भी नाम का क्यों हो, यदि उसका उद्देश्य मानव मात्र के साथ स्नेह प्रेम को लेकर चलने का है तो एक दिन वह निश्चित ही पूजनीय बनेगा। अहिंसा का सच्चा प्राण ही संगठन है तथा धर्म विशाल भवन की नींव है।