पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • यातायात नियमों का पालन आवश्यक रूप से हो

यातायात नियमों का पालन आवश्यक रूप से हो

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
नगर संवाददाता | सवाई माधोपुर

राजकीयकन्या महाविद्यालय में राष्ट्रीय सेवा योजना एवं यातायात पुलिस के संयुक्त तत्वावधान में सड़क सुरक्षा सप्ताह का समापन समारोह हुआ। इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक दशरथ सिंह मौजूद थे। मुख्य अतिथि ने कहा कि वाहन चलाते समय यातायात नियमों का पालन आवश्यक है। माता पिता द्वारा भी अपने बालकों को इस बात की सलाह दी जानी चाहिए, ताकि दुर्घटनाओं से बचा जा सके। प्राचार्य डा. पी.सी. जैन, यातायात प्रभारी माधोसिंह ने कहा कि वाहन चलाते समय वांछित कागजात अपने साथ होने चाहिए तथा हेलमेट और सीट बेल्ट का उपयोग संबंधित वाहन चालकों को करना चाहिए। कोतवाली थानाधिकारी प्रेमबहादुर सिंह ने बताया कि यातायात नियमों और सुरक्षा के बारे में जानकारी होना आवश्यक है। उपाचार्य डा. शकुंतला मीना ने कहा कि यातायात नियमों का आवश्यक रूप से पालना किया जाना चाहिए। यदि नियमों का पालन होगा तो वाहन चालक दुर्घटना से बच सकेगा। राष्ट्रीय सेवा योजना कार्यक्रम अधिकारी डा. विजय सिंह मावई ने भी विचार प्रकट किए। सड़क सुरक्षा सप्ताह से संबंधित कार्यशाला में उदबोधन के लिए छात्राओं गौरी शर्मा, प्रांसी गर्ग, पूजा अग्रवाल को पारितोषिक प्रदान किया गया। कार्यशाला में डा. मगन लाल शर्मा, डा. महेश कुमार कुमावत, डा. मनोज तोमर, डा. प्रदीप मीना ने भी विचार प्रकट िकए।

बालिकाओंने सीखे आत्मरक्षा के गुर

चौथका बरवाड़ा|क्षेत्र केसरकारी विद्यालयों में पढ़ने वाली बालिकाओं को हर स्थिति में आत्मनिर्भर बनाने तथा उनका मुकाबला करने के लिए आत्मरक्षा का हुनर दिया जा रहा है। कस्बे की राजकीय बालिका उच्च माध्यमिक विद्यालय में सोमवार को बालिकाओं को आत्मरक्षा के गुर सिखाए गए। प्रधानाचार्य चंचल गुप्ता ने बताया कि आज के समय में बालिकाओं का आत्मनिर्भर होना बहुत जरूरी है। ऐसे में सरकार के निर्देश पर उन्हें आत्मनिर्भर बनाया जा रहा है। इसके लिए किस तरह से बचाव करना है तथा अन्य आवश्यक चीजों की जानकारी दी जा रही है। इसी तरह राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में भी इसी तरह का प्रशिक्षण दिया जा रहा है।

चौथका बरवाड़ा. बालिकाओंको सिखाए जा रहे आत्मरक्षा के गुर।

खबरें और भी हैं...