पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • भंसाली की फिल्म पद्मावती का किया विरोध

भंसाली की फिल्म पद्मावती का किया विरोध

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
नगर संवाददाता | सवाई माधोपुर

राजस्थानशिक्षक संघ (राष्ट्रीय) उपशाखा सवाई माधोपुर नगर के पदाधिकारियों ने उपजिला कलेक्टर को ज्ञापन सौंपकर भंसाली की फिल्म पद्मावति में ऐतिहासिक तथ्यों से हो रहे खिलवाड़ को रोकने की मांग की है। संघ की गीता जैलिया, कमलेश मीणा, कैलाश सिसोदिया, कमलेश शर्मा, अजय शर्मा, अंजुलता, राजेंद्र साहू, भवानीशंकर, चंद्रमोहन आदि ने बताया कि संजय लीला भंसाली नामक फिल्मकार ने अपनी फिल्म पद्मावती में ऐतिहासिक चरित्र पद्मावती की छवि को दूसरे तरीके से प्रस्तुत करने का प्रयास किया गया। इसका राजस्थान सहित संपूर्ण देश के विचारशील समुदाय ने विरोध किया है। सवाई माधोपुर में भी राजस्थान शिक्षक संघ (राष्ट्रीय) ने भी इसका विरोध करते हुए उपजिला कलेक्टर के नाम राष्ट्रपति को ज्ञापन सौंपा और ऐतिहासिक तथ्यों से हो रहे खिलवाड़ को रोकने की मांग की है। इसी प्रकार राजस्थान शिक्षक संघ (राष्ट्रीय) उपशाखा सवाई माधोपुर ग्रामीण के मंत्री शंकरलाल मीणा, श्यामलाल, विनोद पाराशर, सियाराम वर्मा, सुआलाल मीणा, अंजना पारीक, नेनूराम मीणा, कृष्ण गोपाल महावर, बनवारी गोयल आदि पदाधिकारियों ने भी सवाई माधोपुर उपजिला कलेक्टर के माध्यम से राष्ट्रपति तथा राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा है।

चौथका बरवाड़ा: राजस्थानशिक्षक संघ (राष्ट्रीय) उपशाखा चौथ का बरवाड़ा ने राष्ट्रपति के नाम उपखंड अधिकारी को ज्ञापन देकर अपना विरोध दर्ज कराया है। संघ के उप शाखा मंत्री ईश्वर सिंह ने बताया कि फिल्म में रानी पद्मावती के किरदार को गलत तरीके से पेश किया गया है। ऐसे में इस फिल्म पर तुरंत रोक लगनी चाहिए। इस अवसर पर सभाध्यक्ष मूलचंद महावर, ईश्वर सिंह, कोषाध्यक्ष सत्यनारायण नागर, राजेश वर्मा, सीताराम माली, रामसिंह चंदेल, दामोदर वर्मा, हरकेश मीना, सगीर मोहम्मद, टीकम चंद, रामनिवास बैरवा सहित कई शिक्षक उपस्थित थे।

खंडार|राजस्थानशिक्षकसंघ उपशाखा खंडार के पदाधिकारियों ने सोमवार को खंडार उपजिला कलेक्टर हेमराज परिड़वाल को ज्ञापन सौंपकर ऐतिहासिक तथ्यों से खिलवाड़ करने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है। शिक्षक संघ उपशाखा खंडार अध्यक्ष प्रभुदयाल बैरवा ने एसडीएम को सौंपे पत्र में बताया कि वर्तमान में कतिपय लोगों ने अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के नाम पर भारतीय संस्कृति, सभ्यता, परंपरा और धार्मिक रूप से स्थापित मान्यताओं एवं विश्वासों को विकृत रूप से प्रस्तुत करने का कुत्सित प्रयास किया जा रहा है।

अभी जयपुर में संजय भंसाली फिल्मकार ने अपनी फिल्म पद्मावती में एेतिहासिक चरित्र को विकृत रूप से प्रस्तुत करने का प्रयास किया गया है। संपूर्ण देश का विचारशील समुदाय इसका विरोध करता है। राजस्थान शिक्षक संघ (राष्ट्रीय) ने इस प्रकार की मानसिकता की प्रवृति की निंदा की है।

खबरें और भी हैं...