पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • सोसायटियों के दबाव में जयपुर डिस्कॉम ने गांवों की कॉलोनियों में कम कर दिया बिजली कनेक्शन चार्ज

सोसायटियों के दबाव में जयपुर डिस्कॉम ने गांवों की कॉलोनियों में कम कर दिया बिजली कनेक्शन चार्ज

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सोसायटियों की कॉलोनियों में इस रेट से मिलेगा बिजली कनेक्शन

नगरनिगम क्षेत्र 200 रुपए प्रति वर्ग गज

नगर परिषद क्षेत्र 170 रुपए प्रति वर्ग गज

नगर पालिका क्षेत्र 150 रुपए प्रति वर्ग गज

ग्रामीण क्षेत्र 130 रुपए प्रति वर्ग गज

गांवोंसिस्टम डवलप करने पर खर्चा ज्यादा फिर भी चार्ज कम : सोसायटियोंने मनमर्जी से ग्रामीण क्षेत्र के दूरदराज इलाके में कॉलोनियां काट दी। यह कॉलोनियों जेडीए सोसाइटी एक्ट के नियमों की खुली अवहेलना कर काटी गई है। इन कॉलोनियों क्षेत्रों में बिजली सिस्टम विकसित करने पर शहर के मुकाबले दुगना खर्चा होता है। इसके बावजूद डिस्कॉम प्रबंधन ने कनेक्शन का चार्ज शहर के लोगों से ज्यादा वसूलने का निर्णय किया है।

शहर और गांव में 100 वर्ग गज पर 7 हजार का अंतर

शहरमें सोसायटी के 100 वर्ग गज के मकान में कनेक्शन लेने पर शुल्क के 20 हजार रुपए देने पड़ेंगे। ग्रामीण क्षेत्र की कॉलोनियों में केवल 13 हजार रुपए जमा कराने पर कनेक्शन हो जाएगा। दोनों इलाकों के मकान में कनेक्शन पर 7 हजार का अंतर रहा है। जबकि सामान्य मामलों में केवल 3 हजार में ही कनेक्शन हो जाता है।

गांवों में 130 रु. तो शहर में 200 रुपए प्रति वर्गगज से वसूली

श्यामराज शर्मा | जयपुर

जयपुरडिस्कॉम के प्रबंधन ने गृह निर्माण सोसायटियों को दबाव में गांवों में बसाई कॉलोनियों में बिजली कनेक्शन पर लगने वाला चार्ज खर्चा 90 रुपए तक कम कर दिया है। जबकि नगर निगम (शहरी) क्षेत्र की कॉलोनियों में केवल 20 रुपए की राहत दी है। जबकि शहरों के ज्यादातर इलाके में बिजली सिस्टम पहले से ही विकसित है। नगर परिषद क्षेत्र में 50 रुपए नगर पालिका क्षेत्र में 70 रुपए तक कम किया है। पहले शहर गांवों में सोसायटियों की ओर से बसाई कॉलोनियों में 220 रुपए वर्ग गज के अनुसार बिजली कनेक्शन चार्ज लगता था। शहरी क्षेत्र की कॉलोनियों के बजाए ग्रामीण क्षेत्र की कॉलोनियों में 70 रुपए प्रति वर्ग गज का बड़ा अंतर होना प्रबंधन के फैसले पर सवाल उठा रहा है। मल्टीस्टोरी बिल्डिंग ग्रुप हाउसिंग को कोई राहत नहीं दी है। बिल्डिंग के इलेक्ट्रिफिकेशन पर 1 से 5 लाख रुपए तक का खर्चा आएगा। सोसायटी की कॉलोनियों में 2010 से पहले तक 50 फीसदी से कम कनेक्शन होने पर लिए पूरा खर्चा कॉलोनी के भूखंड धारकों से लेना तय था। कई कॉलोनियों में प्लॉट की कीमत से ज्यादा बिजली कनेक्शन लेने का खर्चा पड़ रहा था। बाद में इसे 200 रुपए प्रति वर्ग गज किया गया।

^सर्कुलरकॉमर्शियल विंग ने निकाला है। मामले को लेकर कोई आपत्तियां आएंगी तो मामला दिखवा कर निस्तारण करवा देंगे। बीकेदोस, प्रबंध निदेशक, जयपुर डिस्कॉम

खबरें और भी हैं...