• Hindi News
  • National
  • सिलिच ने क्वेरी को हराया, 16 साल बाद विम्बलडन फाइनल में क्रोएशियाई खिलाड़ी

सिलिच ने क्वेरी को हराया, 16 साल बाद विम्बलडन फाइनल में क्रोएशियाई खिलाड़ी

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
ड्रेस कोड के कारण बदलने पड़े रंगीन अंडरवियर

क्रोएशियाके मारिन सिलिच ने पहला सेट हारने के बाद शानदार वापसी करते हुए अमेरिका के सैम क्वेरी को शुक्रवार को 6-7, 6-4, 7-6, 7-5 से हराकर पहली बार विम्बलडन टेनिस चैंपियनशिप के खिताबी मुकाबले में प्रवेश कर लिया। सातवीं सीड सिलिच ने 24वीं सीड क्वेरी के जोरदार अभियान को सेमीफाइनल में थाम लिया। क्वेरी ने क्वार्टर फाइनल में विश्व के नंबर एक खिलाड़ी और गत चैंपियन ब्रिटेन के एंडी मरे को पांच सेटों में हराकर 42 प्रयासों में पहली बार किसी ग्रैंड स्लैम के सेमीफाइनल में जगह बनाई थी। 28 वर्षीय सिलिच 2001 में गोरान इवानेसेविच के बाद विम्बलडन के पुरुष एकल फाइनल में पहुंचने वाले पहले क्रोएशियाई खिलाड़ी बने हैं। इवानेसेविच ने तब वाइल्ड कार्ड रहते हुए खिताब जीता था।

फेडरर11वीं बार फाइनल में

स्विट्जरलैंडके रोजर फेडरर चेक गणराज्य के थॉमस बर्डिच को सीधे सेटों में 7-6 (7-4), 7-6 (7-4), 6-4 से हरा 11वीं बार फाइनल में पहुंचे। 8वीं बार खिताब जीतने के लिए उन्हें पहली बार फाइनल में पहुंचे क्रोएशिया के मारिन सिलिच से भिड़ना होगा।

लंदन | विम्बलडनटेनिस टूर्नामेंट में पूरी तरह सफेद जर्सी पहनने का कड़ा नियम है। इस ड्रेस कोड का पालन नहीं करने पर चार जूनियर पुरुष खिलाड़ियों में से तीन को मैच से ठीक पहले अपने रंग-बिरंगे अंडरवियर बदलने पड़ गए। जूनियर चैंपियनशिप में शीर्ष वरीय युगल जोड़ी हंगरी के सोम्बोर पायरस और चीन के वू यिबिंग को मैच से ठीक पहले कोर्ट अधिकारी ने कोर्ट पर ही पहले सफेद अंडरवियर थमाए और उन्हें खेलने से पहले उसे बदलने का आदेश दिया। पायरस ने नीले रंग जबकि उनके साथी वू ने काले रंग के अंडरवियर पहने हुए थे। इसके अलावा उनके विपक्षी खिलाड़ी ब्राजील के जोओ रीस डी सिल्वा को भी इसी स्थिति का सामना करना पड़ा। लेकिन उन्होंने अधिकारी के सामने इस बात का विरोध जताया और उन्हें अपने भूरे रंग के अंडरवियर में ही खेलने की अनुमति देने के लिए कहा। मैच के बाद पायरस ने कहा, “हमने तो अपने अंडरवियर बदल लिए थे लेकिन ब्राजीली खिलाड़ी ने इसका विरोध किया।’ अंडरवियर के इस ड्रामे के कारण जूनियर पुरुष युगल मैच में करीब 30 मिनट की देरी भी हुई क्योंकि सिल्वा इसके लिए तैयार ही नहीं हो रहे थे। हालांकि उनके साथी मोहम्मद अली बेेलालूना कोर्ट पर अकेले ऐसे खिलाड़ी थे जिन्होंने ड्रेस कोड के हिसाब से सफेद अंडरवियर ही पहना था। बाद में सिल्वा को भी अंडरवियर बदलना पड़ा, तब जाकर मैच शुरू हुआ।

लंदन। भारतके रोहन बोपन्ना की चुनौती मिश्रित युगल क्वार्टर फाइनल में ही समाप्त हो गई। रोहन बोपन्ना और कनाडा की गैब्रियला डाब्रोवस्की की जोड़ी को फिनलैंड के हेनरी कोंटिनेन और ब्रिटेन की हीथर वाटसन के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा। हेनरी कोंटिनेन और हीथर वाटसन की मौजूदा चैंपियन जोड़ी ने यह मुकाबला 6-7 (4-7), 6-4, 7-5 से अपने नाम किया। इस हार से विंबलडन में भारतीय चुनौती समाप्त हो गई।

खबरें और भी हैं...