पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • सोजत में 61 करोड़ से बनना था मिनी एयरपोर्ट, बजट के अभाव में अटका

सोजत में 61 करोड़ से बनना था मिनी एयरपोर्ट, बजट के अभाव में अटका

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जिलेमें सोजत की हवाई पट्टी को विकसित कर वहां मिनी एयरपोर्ट का निर्माण करने का प्रोजेक्ट बजट के अभाव में रूक गया है। राज्य सरकार ने एयरलाइंस से एमआेयू होने के बाद सार्वजनिक निर्माण विभाग से प्रस्ताव मांगा था। 5 माह पहले 61 करोड़ रुपए का बजट मांगने के बावजूद अभी तक जारी नहीं किया गया। ऐसे में प्रदेश में छोटे शहर से हवाई सफर शुरू करने का सपना अधूरा रह गया है। कई बार जिला स्तरीय बैठकों में इसका जिक्र होने पर दोबारा प्रोजेक्ट भी उच्चाधिकारियों को भेजा गया, लेकिन आज तक उसकी स्वीकृति नहीं मिली है।

800मीटर रनवे की लंबाई बढ़ाने के साथ सेफ हाउस बनाना प्रस्तावित

राज्यसरकार पिछले एक वर्ष से छोटे कस्बों को हवाई सेवा से जोड़ने के लिए विस्तारा एयरलाइंस से एमओयू कर इंटर स्टेट हवाई सेवा शुरू करने की बात कहीं थी, जिसके चलते सोजत को हवाई सेवा से जोड़ने के लिए यहां की हवाई पट्टी का जायजा लेने की मंशा से राजस्थान सरकार के चीफ पायलट केशरीसिंह स्वयं स्टेट चार्टर प्लेन से पूरी टीम के साथ सोजत आए थे। उन्होंने निरीक्षण के दौरान बताया कि वर्तमान हवाई पट्टी की लंबाई करीब 1100 मीटर है। इस पर अधिकतम 14 सीटर चार्टर प्लेन उतर सकते हैं।

शेष|पेज12

यहांपर ऐसे विमानों का महंगा पैंसेजर लोड़ नहीं मिलने की बात कहीं। उन्होंने हवाई पट्टी को देखते हुए यहां पर मध्यम श्रेणी के 70 से 95 सीट वाले जेट विमान उतारने की मंशा जताई थी। इसके लिए उन्होंने अधिकारियों को सबसे पहले रनवे को कम से कम 800 मीटर बढ़ाने के निर्देश दिए थे। हवाई पट्टी की चौड़ाई इसकी लोकेशन से उन्होंने हवाई सेवा के लिए जगह को पर्याप्त बताया था। उन्होंने बताया कि जब तक रनवे की लंबाई और पर्याप्त चौड़ाई नहीं बढ़ेगी। ऐसे में यहां पर एटीआर विमानों का उतरना नामुनकिन है।

उच्चाधिकारियों के ध्यान में लाएंगे

^राज्यसरकार की मंशा अनुरूप विभाग की इच्छा है कि सोजत में हवाई सेवा शुरू हो। इसलिए उड्डयन विभाग की गाइड लाइन के अनुसार दो बार प्रपोजल बनाकर सरकार को भेजा जा चुका है। इस संबंध में मंजूरी दिलाने के लिए आगामी दिनों में होने वाली जिला स्तरीय बैठक में कलेक्टर से भी इस बारे में चर्चा कर स्वीकृति को लाने का प्रयास करेंगे। -जस्सारामचौधरी, अधिशाषी अभियंता, पीडब्लूडी सोजत

इससंबंध मेंं मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे से करेंगे बात

^राज्यसरकार सोजत से हवाई सेवा शुरू करना चाहती है। इसके लिए मुख्यमंत्री ने पहले भी करीब सवा दो करोड़ रुपए की स्वीकृति दी थी। जिसका निर्माण कार्य पूरा हो गया है। रनवे बाउंड्री वॉल को ऊंचा उठा कर वहां पर तारबंदी भी कर दी है। सरकार यहां पर छोटा हवाई अड्डा भी विकसित करना चाहती है। इसके लिए प्रोजेक्ट भी मांगा गया था। वह किस स्तर पर अटका हुआ है। उसका पता लगाकर जल्द ही प्रस्ताव को स्वीकृति दिलाने का प्रयास किया जाएगा। इसके लिए मुख्यमंत्री से बात भी करेंगी। -संजनाआगरी, विधायक सोजत

221 लाख में हुआ था रनवे सेफ्टी वॉल का पुन: निर्माण

चीफपायलट गत वर्ष 4 फरवरी, 2016 को सोजत आए थे। इस दौरान रनवे की हालत खस्ताहाल थी और चारो तरफ की बाउंड्री वॉल जगह-जगह से टूटी होने के कारण मवेशी अंदर घूम रहे थे। इस स्थिति को दूर करने तथा हवाई पट्टी को चारो तरफ से मजबूत करने के लिए उन्होने प्रोजेक्ट बनाकर भेजने को कहा, इसके बाद सार्वजनिक निर्माण विभाग ने करीब एक माह बाद पूरी स्टडी के साथ 2.88 करोड़ का बजट भेजा था। इस पर राजस्थान सरकार ने करीब एक माह बाद ही 221 लाख रूपए स्वीकृत कर पीडब्लूडी को भेज दिए। इसके बाद मार्च माह में टेंडर होने पर 6 माह की अवधि में इसकी बाउंड्री वॉल को सुरक्षा के लिहाज से करीब 2.5 फीट ऊंची कर इतनी ही ऊंचाई पर तारबंदी की गई। इसके बाद रनवे पर मजबूत डामरीकरण कर उसे नया तैयार किया गया। इसके बाद उड्डयन विभाग ने यहां पर छोटा हवाई अड्डा तैयार करने के लिए प्रोजेक्ट भेजने को कहा था, जिस पर अधिकारियों ने अगस्त माह में 61 करोड़ का प्रोजेक्ट बनाकर भेजा था, जिसकी स्वीकृति का इंतजार है।

सोजतको जयपुर अहमदाबाद से जोड़ने की कोशिश

पालीजिले में प्रवासी उद्यमियों की संख्या सबसे अधिक है। यह बैंगलोर, चेन्नई, सूरत, हैदराबाद आदि में रहते हैं। हवाई यात्रा से मारवाड़ आने के लिए जयपुर अथवा अहमदाबाद उतरना पड़ता है। क्योंकि जोधपुर में रोजाना एक ही फ्लाइट मुंबई से आती है और दिल्ली जाती है। ऐसे में यह सेवा उनके काम की नहीं। इसके बावजूद उन्हें या तो जयपुर या फिर अहमदाबाद उतरना पड़ता है और वहां से जिले में पहुंचने के लिए करीब 8 से 10 घंटे का सफर करना पड़ता है। इस परेशानी की वजह से प्रवासी ट्रेन अथवा बस में यात्रा कर करीब 48 घंटे के लंबे सफर के बाद अपने गांव पहुंच सकता है। सरकार चाहती है कि सोजत से मध्यम श्रेणी 70 से 95 सीट वाले एटीआर जेट विमान शुरू हो और सीटो की संख्या ज्यादा होने पर इन यात्रियों को जयपुर अथवा अहमदाबाद एयरपोर्ट पर करीब 1 घंटे के सफर के बाद उतारा जाए और वहां से इन स्टेशनों की सीधी फ्लाइट पकड़वाई जाए।

सोजत. हवाई पट्‌टी के मुख्य द्वार पर लगा ताला।

खबरें और भी हैं...