• Hindi News
  • National
  • मुंबई के लाफ्टर फेम फौजदार ने दी हास्य रचनाओं की प्रस्तुति, पांडाल में गूंजे भारत माता के जयकारे

मुंबई के लाफ्टर फेम फौजदार ने दी हास्य रचनाओं की प्रस्तुति, पांडाल में गूंजे भारत माता के जयकारे

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कविकन्हैयालाल सेठिया की धरती सुजानगढ़ पर शुक्रवार रात दी यंग्स क्लब ऑफ सुजानगढ़ के स्थापना दिवस को लेकर नीलम जयंती महोत्सव के तहत हुए कवि सम्मेलन में हास्य कवियों की फुलझड़ियों ने गुदगुदाया, तो वीररस के गीतों पर वंदेमातरम की गूंज रही।

मुरलीधर कृष्णकुमार कनोई के आर्थिक सौजन्य से लालचंद पानादेवी कनोई स्मृति अखिल भारतीय कवि सम्मेलन में बाहर से आए कवियों को सुनने के लिए बड़ी संख्या में उपस्थित श्रोता देर रात तक डटे रहे। उदयपुर के कवि राजकुमार बादल ने मां शारदे की वंदना से बाद राजस्थानी हास्य गीतों की प्रस्तुतियां देकर तालिया बटोरी।

जबलपुर के हास्य कवि सुदीप भोला ने छंद पेरोड़ी की प्रस्तुतियां देकर श्रोताओं को गुदगुदाया। उनकी किसान की वेदना शीर्षक कविता को बेहद सराहा गया। मुंबई से आए लाफ्टर फेम सरदार फौजदार ने हास्य रचनाओं की प्रस्तुति दी, तो श्रोता हंस-हंस कर लोटपोट हो गए। उन्होंने जिसके हाथ पाक का झंडा, उस सीने पर गोली हो की प्रस्तुति दी, तो पांडाल भारत माता के जयकारों से गूंज उठा।

सुजालपुर (मध्यप्रदेश) के हास्य व्यंग्य के कवि गोविंद राठी ने बताऊं तुम्हें वह कहां कहां रखती है, तुम्हारे कदमों में जो खुशियों का जहां रखती है, वक्त आया तो दो दिन उसे घर में ना रख सके, नौ महीने जो कोख में मां तुम्हे रखती है जैसी कविताओं की प्रस्तुतियां दी, तो श्रोता भावविभोर हो गए। भीलवाड़ा के वीर रस के कवि योगेंद्र शर्मा ने हार नहीं मानी थी हमने युग के चांद सितारों से, लेकिन अक्सर हार गए हम घर के इन्हीं गद्दारों से जैसी ओज रचनाओं की प्रस्तुति दी, तो श्रोताओं ने वंदेमातरम के जयघोष से उनकी हौसला अफजाई की। सुजानगढ़ के शायर गोपाल सुजानगढ़ी ने भी प्रस्तुति दी। पूर्व विधायक रामेश्वरलाल भाटी की अध्यक्षता में हुए कार्यक्रम के मुख्य अतिथि विधायक खेमाराम मेघवाल थे। कार्यक्रम में साहित्यप्रेमी शम्सुद्दीन स्नेही, प्रधानाचार्या सरोज वीर पूनिया, भाजपा मंडल अध्यक्ष भंवरलाल शर्मा, जिलाध्यक्ष भाजपा महिला मोर्चा यशोदा माटोलिया, सुरेश इंदोरिया मंचस्थ अतिथि थे। क्लब अध्यक्ष निर्मल कुमार भूतोड़िया ने कवियों का परिचय देते हुए स्वागत भाषण दिया। क्लब प्रतिनिधि महावीर मिरणका, दानमल शर्मा, गोपाल बी चोटिया, ललित सोनी, हाजी मोहम्मद, अयूब खां, मूलचंद तिवाड़ी, योगेंद्र भोजक, अंकित चोटिया, कमला सिंघी, वीणा भोजक, जन्नत बेगम, सज्जन शर्मा ने अतिथियों को स्मृति चिन्ह भेंटकर माला पहना कर स्वागत किया। कार्यक्रम का संचालन जयश्री कुंडलिया कवि सम्मेलन का संचालन कवि गोविंद राठी ने किया।

सुजानगढ़. नीलम जयंती महोत्सव के तहत आयोजित कवि सम्मेलन में उपस्थित श्रोता देर रात तक डटे रहे।

खबरें और भी हैं...