पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • कटारिया ने दिया स्वच्छ राजनीति का मंत्र

कटारिया ने दिया स्वच्छ राजनीति का मंत्र

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सिरोही-सुमेरपुर में कार्यकर्ताओं की बैठक को संबोधित किया

भास्करन्यूज | सिरोही/सुमेरपुर/शिवगंज

प्रदेशके गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया ने गुरुवार को सुमेरपुर में कार्यकर्ताओं की बैठक लेकर नगर निकाय चुनाव में पार्टी की जीत का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि पार्टी की जीत के लिए एकजुट होकर लगना होगा। कटारिया ने कार्यकर्ताओं को संगठन के हित में काम करने की नसीहत दी। उन्होंने कहा कि टिकट मिले या मिले, लेकिन बोर्ड पार्टी का बने इस पर काम करना होगा। कार्यकर्ता पार्टी की जान होता है और उसके बूते संगठन आगे बढ़ाता है इसलिए पार्टी की रीति नीति के अनुसार काम करना होगा।

इससे पूर्व सिरोही में आयोजित कार्यकर्ताओं की बैठक में कटारिया ने तो राज्य सरकार की पिछले 11 माह की उपलब्धियों या योजनाओं का जिक्र किया और ही मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे का। उन्होंने पूरे भाषण में केवल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जिक्र किया और सीएम राजे का नाम सिर्फ एक बार लिया। वह भी सबसे अंत में यह कहकर कि मुख्यमंत्री ने हर ग्राम पंचायत मुख्यालय पर सीनियर सैकंडरी स्कूल खोलने का अच्छा फैसला लिया है। इसके अलावा अपने करीब एक घंटे के भाषण में उन्होंने पहले जनसंघ के समय की बातें और फिर नरेंद्र मोदी के मुख्यमंत्री रहने से लेकर प्रधानमंत्री बनने तक का जिक्र किया। बीच बीच में वे कार्यकर्ताओं को एकजुटता की नसीहत जरूर देते दिखाई दिए। उनके इस भाषण के बाद कार्यकर्ता यह चर्चा करते दिखाई दिए कि आखिर नगर निकाय चुनाव जीतना किसके बूते है राज्य सरकार की उपलब्धियों के नाम पर या केंद्र में मोदी के नाम पर। गृहमंत्री कटारिया ने कहा कि भ्रष्टाचार को मिटाने के लिए पहले अपना दिमाग ठीक करना होगा। जब तक देश के नेता ठीक नहीं होंगे, तब तक देश में सुधार की बात बेमानी होगा। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की स्वच्छ राजनीति का उदाहरण देकर बताया कि मोदी ने मुख्यमंत्री रहते कभी भ्रष्टाचार को बढ़ावा नहीं दिया, जिसकी वजह से आज वे इस पद तक पहुंचे। प्रधानमंत्री बनते ही उन्होंने अपनी टीम को चेताया कि खाऊंगा और किसी को खाने दूंगा। यदि हर कार्यकर्ता इस भावना से काम करें, तो निश्चित पार्टी मजबूत होगी और जनता साथ देगी। उन्होंने नगर निकाय चुनावों में जीत के लिए आमजन की समस्याओं को समझ कर उनके समाधान का मंत्र दिया।

22हजार का सामान 50 हजार में खरीदते