पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Foreign Company, The Railway Track Will DFCC

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

विदेशी कंपनी बिछाएगी डीएफसीसी का रेलवे ट्रैक

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
अजमेर.रेलवे की बहुद्देश्यीय योजना डीएफसीसी रेलवे ट्रैक को रेवाड़ी से इकबालगढ़ के बीच डालने के लिए भूमि अवाप्ति, मुआवजा भुगतान और तकनीकी सर्वे का कार्य पूरा कर लिया गया है। डीएफसीसी प्रशासन ने अब विदेशी कंपनियों को रेलवे ट्रैक डालने के लिए आमंत्रित किया है। टेंडर प्रक्रिया 30 अक्टूबर तक पूरी हो जाएगी। रेवाड़ी से इकबालगढ़ (गुजरात) के बीच करीब 545 किलोमीटर लंबे ट्रैक की अनुमानित लागत सात हजार करोड़ आंकी गई है। 98.5 करोड़ रुपए मुआवजा दिया, 40 करोड़ बकाया मुख्य परियोजना प्रबंधक आरके जैन के अनुसार डीएफसीसी ने रेवाड़ी से इकबालगढ़ के बीच ट्रैक के लिए सभी प्रक्रिया पूरी कर ली है। भूमि अवाप्ति के बाद भूमि मालिकों को 98.5 करोड़ रुपए का मुआवजा दिया गया है। करीब 40 करोड़ रुपए मुआवजा राशि वितरित किया जाना बाकी है। सिग्नल और इलेक्ट्रिफिकेशन का कार्य बाद में मुख्य परियोजना प्रबंधक जैन ने बताया कि 30 अक्टूबर को रेलवे ट्रैक डालने का काम करने के लिए कंपनियों के टेंडर खोले जाएंगे। इसमें अनुमानित लागत करीब 7 हजार करोड़ रुपए मानी गई है। ट्रैक डालने के बाद सिग्नल और इलेक्ट्रिफिकेशन का कार्य दूसरे ठेकेदार फर्म से कराया जाएगा। राज्य में सात जिलों से गुजरेगा ट्रैक डीएफसीसी रेलवे ट्रैक राज्य में अलवर, सीकर, नागौर, जयपुर, अजमेर, पाली और सिरोही जिलों से होकर गुजरेगा। करीब 1932 हैक्टेयर भूमि अवाप्त की गई है। अजमेर में दौराई और सुभाषनगर इलाके के कुछ भूमि मालिकों को छोड़कर मुआवजा राशि का भुगतान कर दिया गया है। औद्योगिक क्षेत्रों को मिलेगा फायदा डीएफसीसी रेलवे ट्रैक से राज्य में भिवाड़ी, नीमराना, किशनगढ़, ब्यावर और आबूरोड औद्योगिक क्षेत्र लाभान्वित होंगे। इससे रेलवे की आय बढ़ेगी और उद्योगों का विकास होगा। डीएफसीसी रेलवे मार्ग के लिए राज्य में मारवाड़ व फुलेरा में जंक्शन रेलवे स्टेशन बनाए गए हैं। रेल मार्ग में फुलेरा में एक फ्लाईओवर और विभिन्न जगहों पर 11 ब्रिज बनाए गए हैं।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज घर के कार्यों को सुव्यवस्थित करने में व्यस्तता बनी रहेगी। परिवार जनों के साथ आर्थिक स्थिति को बेहतर बनाने संबंधी योजनाएं भी बनेंगे। कोई पुश्तैनी जमीन-जायदाद संबंधी कार्य आपसी सहमति द्वारा ...

और पढ़ें