• Hindi News
  • Governor, Margrate Alva, Jaipur Education, Teacher Shortage, Jaipur News

राज्यपाल ने उठाए प्रदेश की शिक्षा व्यवस्था पर सवाल, कहा शिक्षकों की कमी है

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

जयपुर। राज्यपाल मारग्रेट अल्वा ने प्रदेश की शिक्षण व्यवस्था पर गंभीर सवाल उठाए हैं। बिड़ला सभागार में आयोजित शिक्षक सम्मान समारोह में उन्होंने कहा कि गांव में शिक्षक नौकरी करना नहीं चाहते। प्रदेश के 70 हजार स्कूल शिक्षकों की कमी से जूझ रहे हैं। बच्चों के लिए 8 हजार स्कूलों में पेयजल सुविधा और 15 हजार स्कूलों में टॉयलेट नहीं है।

राज्यपाल ने कहा कि शिक्षक समय पर स्कूल नहीं आते। बच्चे स्कूल के बाहर खेलते रहते हैं। शिक्षकों की अनुपस्थिति का प्रतिशत बहुत अधिक है। तबादले के लिए नौकरी छोड़ जयपुर में बैठे रहते हैं। राज्यपाल से पहले शिक्षामंत्री बृजकिशोर शर्मा और प्रमुख शासन सचिव शिक्षा वीनू गुप्ता ने भी माना कि प्राइमरी स्तर पर शिक्षा की गुणवत्ता में कमी है।

ये कहा राज्यपाल ने

> गुरु व शिष्य का संबंध चूक गया है। शिक्षक स्कूल का टाइमिंग, छुट्टी सब जानते हैं, लेकिन फिर भी समय पर नहीं आते और पहले ही चले जाते हैं।
> शिक्षक का काम नौकरी नहीं है। यह मिशन है। यह कमिटमेंट है। यह तनख्वाह लेने का काम नहीं है। यह कोई यूनियन बनाकर धरने पर बैठने का काम नहीं है। शिक्षक नई पीढ़ी के निर्माण कर्ता है।
> राजस्थान में 1 लाख 25 हजार स्कूलों में 4 लाख शिक्षक हैं। गांवों में सिंगल टीचर के भरोसे स्कूल चल रहे हैं। चार कक्षाओं को एक शिक्षक पढ़ाता है। इसके बावजूद शिक्षकों से सर्वे, इलेक्शन ड्यूटी कराई जाती है।
> यूनिफॉर्म, लैपटॉप, मिड डे मील, किताबों की सुविधा दी जा रही है, लेकिन स्कूलों में आधारभूत सुविधाओं की बहुत कमी है।

जल्द ही दूर करेंगे कमी : शिक्षामंत्री

शिक्षामंत्री बृजकिशोर शर्मा ने कहा कि महामहिम की बातों में काफी सच्चाई है। स्कूलों में शिक्षकों का अभाव है। इस कमी को दूर करने के लिए तृतीय, द्वितीय और प्रथम श्रेणी शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया चल रही है। स्कूलों में आधारभूत सुविधाओं की कमी की उनकी बात भी सही है। इसके लिए रमसा के तहत जल्दी ही बजट मिल जाएगा। इसके बाद इस कमी को भी दूर कर दिया जाएगा।

इधर, शिक्षक लगाने के लिए छात्राएं सड़क पर

स्कूल में शिक्षक लगाने की मांग को लेकर छात्राओं ने डग-भवानीमंडी मार्ग पर गुराडिय़ाजोगा के समीप जाम लगा दिया।

शिक्षक दिवस पर छात्र को डंडे से पीटा, शिक्षिका एपीओ

भीलवाड़ा त्न शहर के राउप्रावि नाड़ी मोहल्ला, आजादनगर में गुरुवार को शिक्षिका नीता कोठारी द्वारा सातवीं कक्षा के छात्र कैलाश शर्मा को डंडे से पीटने का मामला सामने आया है। डंडा मारने से छात्र की आंख पर चोट लग गई। इससे खून बहने लगा। डीईओ प्रारंभिक (प्रथम) जीवराज जाट ने बताया कि शिक्षिका नीता कोठारी को एपीओ कर दिया है। छात्र की आंख पर चोट लगते ही शिक्षिका कोठारी घबरा गईं। उसने बच्चे व परिजनों से माफी मांगी है। कोठारी ने कहा कि मैं बच्चे की आंख पर नहीं मारना चाहती थी, उसे सिर्फ डराना चाहती थी। गलती हो गई। अब मैं किसी भी बच्चे को नहीं मारूंगी।