• Hindi News
  • National
  • पाली के रणवीर ने 7 साल बाद वापसी कर जीता स्टेट मास्टर्स बैडमिंटन

पाली के रणवीर ने 7 साल बाद वापसी कर जीता स्टेट मास्टर्स बैडमिंटन

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पालीके छोटे से रुंगडी गांव के रणवीरसिंह राजपुरोहित ने 7 साल बाद अपनी धमाकेदार वापसी करते हुए बैडमिंटन अलवर में आयोजित स्टेट मास्टर्स बैडमिंटन प्रतियोगिता में अपने जोड़ीदार अनिल पासवान के साथ खेलते हुए युगल खिताब अपने नाम कर लिया है। उन्होंने धीरज कटारिया हेमेंद्र यादव की जाेड़ी को सीधे सेटों में 24-22 21-15 से हराया। अब रणवीरसिंह अनिल पासवान की जोड़ी केरल में होने वाली नेशनल बैडमिंटन प्रतियोगिता में राजस्थान का प्रतिनिधित्व करेंगे। खास बात यह कि 7 साल पहले रणवीरसिंह राजपुरोहित पूरी तरह से बैडमिंटन खेलना छोड़ चुके थे। इसके बाद पहली बार बैडमिंटन कोर्ट में उतरे रणवीरसिंह ने रविवार को युगल मास्टर्स का खिताब अपने नाम किया। रणवीरसिंह राजपुरोहित जयपुर में महालेखाकार कार्यालय में सीनियर अकाउंटेंट है। शेष| पेज 14



पिता ने कोच की भूमिका निभाई, आज भी जज्बा कम नहीं

रणवीरसिंहराजपुरोहित के पिता पृथ्वीराजसिंह को खेलो से काफी लगाव है। उन्होंने बैडमिंटन में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कॉर्डिनेटर से लेकर कई भूमिका निभाई है। वो अपने दोनों बेटों को दिन में 6 से 7 घंटे तक अभ्यास कराते थे। सेवानिवृत शिक्षक पृथ्वीराजसिंह अब भी रोजाना युवाओं को निशुल्क कोचिंग देने का काम करते हैं। कई खिलाडिय़ों को यह अपने कोचिंग में स्टेट खेला चुके हैं।

बेटी कल्पना जयपुर चैंपियन, भाई भी चैंपियन

रणवीरसिंहके अलावा उनकी बेटी कल्पना भी 10 साल की उम्र में ही जयपुर जिला चैंपियन बन गई है। हॉल में उन्होंने यह खिताब अपने नाम किया। वो बेटी को अब इंटरनेशनल लेवल पर तैयार करने के लिए ट्रेंनिग दे रहे है। इसके अलावा इनके छोटे भाई रनवीरसिंह राजपुरोहित भी 3 बार सब जूनियर 3 बार जूनियर चैंपियन रह चुके है। इसके अलावा इनके पिता पृथ्वीराजसिंह राजपुरोहित थॉमस ऊबेर कप में लाइन जजेज कॉर्डिनेटर रह चुके है।

नेशनल अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी कर चुके प्रतिनिधित्व

1995से लेकर 2007 तक रणवीरसिंह ने 20 से अधिक बार नेशनल लेवल पर राजस्थान का प्रतिनिधित्व किया। इसके अलावा उनका एक बार एशियन सेटेलाइट में भी खेलने का अवसर मिला। इतना ही नहीं वो लगातार 7 साल राजस्थान सीनियर बैडमिंटन चैंपियन लगातार 3 साल तक जूनियर चैंपियन भी रहे। इसके अलावा रणवीरसिंह सिविल सर्विसेज में ऑल इंडिया चैंपियन भी रहे चुके हैं।

सिंगल फाइनल बीच में छोड़ रनर अप रहे, इसमें भी नेशनल खेलेंगे

राजपुरोहितडबल्स के साथ-साथ सिंगल बैडमिंटन में भी वो नेशनल लेवल पर प्रदेश का प्रतिनिधित्व करेंगे। सिंगल फाइनल में भी वे जीत के करीब थे उनको अचानक मांसपेशियों में खिंचाव होने के चलते मैच बीच में ही छोड़ना पड़ा। इसके चलते वो दूसरे स्थान पर रहे। इसके बाद भी उनका केरल में होने वाली नेशनल सिंगल बैडमिंटन प्रतियोगिता में राजस्थान का प्रतिनिधित्व करने के लिए चयन किया गया है।

{35 साल की उम्र में 7 साल बाद बैडमिंटन काेर्ट पर वापसी करते हुए अलवर में आयोजित राजस्थान स्टेट मास्टर्स बैडमिंटन में जोड़ीदार अनिल पासवान के युगल खिताब जीता

{ अब 1 मार्च से केरल के कोचीन में होने वाली नेशनल बैडमिंटनशीप में राजस्थान का प्रतिनिधित्व करेंगे रणवीर

पाली. ट्रॉफीके साथ रणवीरसिंह राजपुरोहित।

खबरें और भी हैं...