पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • छात्रसंघ सांस्कृतिक कार्यक्रम में अतिथियों को बुलाने को लेकर एबीवीपी दो गुटों में बंटी

छात्रसंघ सांस्कृतिक कार्यक्रम में अतिथियों को बुलाने को लेकर एबीवीपी दो गुटों में बंटी

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भंसालीगर्ल्स कॉलेज में मंगलवार को छात्रसंघ के तत्वावधान में होने वाले गोरबंध 2017 कार्यक्रम विवाद में पड़ गया है। अतिथियों को बुलाने के मुद्दे पर छात्र संघ उपाध्यक्ष गर्विता पांडे तथा महासचिव लाजवंती सिसोदिया ने कार्यक्रम से बहिष्कार करने का ऐलान किया है। इस मामले को लेकर एबीवीपी भी दो गुटों में बंट गई है। छात्र संघ पदाधिकारियों में हुए इस विवाद को लेकर कई नेताओं ने समझाइश का प्रयास भी किया, मगर सहमति नहीं बन पाई। बहिष्कार करने वाले उपाध्यक्ष महासचिव का आरोप है कि अध्यक्ष नेहा जैन कार्यक्रम को लेकर उनसे राय-मशविरा किए बगैर ही अपने स्तर पर अतिथियों का नाम तय कर लिया।

जानकारी के अनुसार छात्रसंघ उपाध्यक्ष पांडे महासचिव लाजवंती कार्यक्रम में अतिथियों को लेकर असंतुष्ट थी। कार्यक्रम को लेकर छात्रसंघ अध्यक्ष नेहा जैन द्वारा राय नहीं लेने किसी प्रकार की जानकारी नहीं देने का आरोप लगाया। इधर पूरे कार्यक्रम को लेकर एबीवीपी के पदाधिकारी भी दो गुटों में बंट गए हैं। इसको लेकर एबीवीपी के कार्यकर्ताओं द्वारा छात्रसंघ अध्यक्ष उपाध्यक्ष के बीच समझाइश का प्रयास किया जा रहा है। लेकिन कुछ भी नतीजा नहीं निकाला।

उपमुख्य सचेतक मदन राठौड़ को अतिथि बनाना चाहती थी उपाध्यक्ष पांडे छात्रा प्रमुख पायल पटेल : जानकारीके अनुसार मुख्य अतिथियों में उप मुख्य सचेतक मदन राठौड़ सहित एबीवीपी के पदाधिकारियों को भी बुलाना चाहता था। लेकिन दूसरे पक्ष की और से इस पर आपत्ति दर्ज कराते हुए पूरा मामला बिगड़ गया। एबीवीपी की जिला छात्रा प्रमुख पायल पटेल छात्रसंघ उपाध्यक्ष गर्विता पांडे के साथ अन्य पदाधिकारी उप मुख्य सचेतक मदन राठौड़ को मुख्य अतिथि के तौर पर बुलाना चाहते थे। इसी को लेकर एबीवीपी में विवाद हो गया। एबीवीपी के पदाधिकारी भी दो गुटों में बंट गए। गौरतलब है कि मंगलवार को होने वाले कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर विधायक ज्ञानचंद पारख, यूआईटी चेयरमैन संजय ओझा, नगर परिषद चेयरमैन महेंद्र बोहरा प्रदेश सह संगठन मंत्री मांगीलाल चौधरी को बुलाया गया है। छात्रा प्रमुख पायल पटेल छात्रसंघ उपाध्यक्ष गर्विता पांडे इसी को लेकर खफा थी। उनका कहना था कि उप मुख्य सचेतक ने कॉलेज में कई विकास कार्य करवाएं है। ऐसे में उनको भी बुलाना था।

आयुक्तालय के निर्देशों की धज्जियाँ उड़ा रहे हैं छात्र संगठन

कॉलेजमें छात्रसंघ समारोह कराने को लेकर कॉलेज आयुक्तालय के निर्देशों को भी छात्र संगठन नहीं मान रहे है। 31 जनवरी के बाद भी यह इस तरह के आयोजन करा रहे है। जबकि कॉलेज प्रशासन भी इसको लेकर परमिशन जारी कर देता है। इसके बाद भी कॉलेजों में इस प्रकार के आयोजन होते रहते है। खास बात यह कि अगले ही दिनों में परीक्षा का आयोजन भी होना है।

गोरबंधनाम देकर छात्रसंघ समारोह का आयोजन

कॉलेजोंमें छात्रसंघ समारोह कराने की अंतिम तिथि 31 जनवरी होने के बाद अब एबीवीपी के पदाधिकारियों ने कार्यक्रम को गोरबंध का नाम दे दिया। अब पदाधिकारी खुद इस कार्यक्रम को केवल सांस्कृतिक कार्यक्रम ही बता रहे है। इसी बहाने से वो छात्रसंघ उद्घाटन समारोह कर रहे है। संगठन के उपमन्यूसिंह राणा ने बाकायदा इसको लेकर बयान भी जारी किया है। उन्होंने कहा कि शपथ ग्रहण भी होगा।

^31 जनवरी के बाद छात्रसंघ उद्घाटन समारोह की परमिशन नहीं दे सकती हूं। छात्रसंघ अध्यक्ष उपाध्यक्ष सहित पदाधिकारियों का अंदरूनी मामला है। मैने तो सिर्फ सांस्कृतिक कार्यक्रम की परमिशन दी है। शपथ ग्रहण समारोह की नहीं। इतना ही नहीं यह पदाधिकारी कॉलेज से भी नदारद रहते है। मैने सिर्फ सांस्कृतिक कार्यक्रम की ही परमिशन दी है। -निर्मलामेहता, प्राचार्य, गर्ल्स कॉलेज, पाली।

^मैंनेछात्रसंघ उपाध्यक्ष महासचिव को बता दिया था कार्यक्रम को लेकर इसके बाद भी वो नहीं आते तो कोई बात नहीं। मेरे साथ पूरा संगठन है, कार्यक्रम तो होकर रहेगा। -नेहा जैन, छात्रसंघ अध्यक्ष

^हमदोनों को इस कार्यक्रम को लेकर कुछ भी नहीं पूछा गया। अतिथियों को भी मनमर्जी से बुलाया गया। हम इस कार्यक्रम का हिस्सा नहीं होंगे। संगठन हमारे साथ है। छात्रसंघ अध्यक्ष सिर्फ अपनी मनमानी कर रही है। इनके पीछे कुछ संगठन के लोग लगे है जो यही काम करते है। हम दोनों इसका बहिष्कार कर कार्यक्रम नहीं आएंगे। -छात्रसंघ उपाध्यक्ष गर्विता पांडे महासचिव लाजवंती सिसोदिया

^छात्रसंघ का उद्घाटन समारोह धूमधाम से आयोजित होगा। अतिथियों को लेकर कुछ मनमुटाव था उनको मना लेंगे। संगठन में सभी बराबर है। बहिष्कार को लेकर छात्रसंघ उपाध्यक्ष महासचिव सहित सभी कार्यक्रम में आएंगी। -उपमन्यूसिंह राणा, एबीवीपी पदाधिकारी

खबरें और भी हैं...